नेशनल

पुलवामा में CRPF कैंप पर हुए फिदायीन हमले में 5 जवान शहीद, 3 आतंकी भी ढेर

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
75
| जनवरी 1 , 1970 , 05:30 IST | पुलवामा

जम्मू कश्मीर के लैथापोरा में सीआरपीएफ के ट्रेनिंग कैंप पर फिदायीन हमला हुआ है। सीआरपीएफ का 5 जवान शहीद हो गए जबकि 3 जवान घायल हैं। यह घटना देर रात दो बजकर दस मिनट की है। ट्रेनिंग कैंप पर हुए इस हमले में 5 जवान शहीद हो गए हैं। घंटों बाद सुरक्षाबलों ने 3 आंतकियों को मार गिराया। इस हमले की जिम्मेदारी जैश-ए मोहम्मद ने ली है।

फिदायीन आतंकी कड़ाके की ठंड के बीच रविवार रात दो बजकर 10 मिनट पर कैंप में घुसे थे। आतंकियों ने पहले यहां ग्रेनेड से हमला किया और इसके बाद अधाधुंध फायिरंग शुरू कर दी। सीआरपीएफ जवानों ने जवाबी कार्रवाई की तो आतंकी कैंप में बनी एक इमारत में घुस गए।

जहां आतंकियों छुपे हुए थे, वो वो चार मंजिला इमारत है। आतंकी बिल्डिंग के चौथे मंजिल पर मौजूद थे और यहीं से फायरिंग कर रहे थे। इस बिल्डिंग में सीआरपीएफ सेंटर का एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक है, जहां कंट्रोल रूम भी है। ये भी जानकारी मिली है कि जम्मू कश्मीर पुलिस ने इस कैंप पर फिदायीन हमले की स्पेसिफिक चेतावनी दी थी।

DSW7shrUIAADxdW

चार मंजिला इस इमारत में 3 ब्लॉक हैं। बिल्डिंग का पहला ब्लॉक अधिकारियों के आवासीय परिसर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। जबकि दूसरे ब्लॉक में मेन ऑफिस के साथ क्षेत्राधिकारी कार्यालय भी है। आतंकियों ने ब्लॉक नंबर 3 को अपना टारगेट बनाया।

मीडिया को व्हाट्सएप पर मेसेज भेजकर जैश ए मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली। आतंकी संगठन का कहना है कि यह फिदायिन हमला उनके आतंकी कमांडर नूर त्राली की मौत का बदला लेने के लिए किया गया है।

DSW7vZyVQAAUjcS

सीआरपीएफ और जम्मू कश्मीर पुलिस के आईजी अतिरिक्त सहायता लेकर कैंप पहुंच चुके हैं। सीआरपीएफ का कहना है कि इस बात की पूरी आशंका है कि दूसरे कैंपों में भी इस तरह के हमले हो सकते हैं।

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते जम्मू के पुलवामा में सुरक्षाबलों ने बड़ी सफलता हासिल करते हुए जैश कमांडर नूर त्राली को मार गिराया था। सूत्रों के अनुसार सेना को सोमवार को पुलवामा में आतंकियों के होने की जानकारी मिली थी. सेना ने एसओजी और सीआरपीएफ के साथ मिलकर सर्च ऑपरेशन शुरू किया था।


कमेंट करें