नेशनल

दिवंगत पत्रकार गौरी लंकेश मरणोपरांत एन्ना पोलितकोवस्काया पुरस्कार से सम्मानित

शाहनवाज़ ख़ान , ब्लॉगर | 0
157
| अक्टूबर 5 , 2017 , 18:16 IST | लंदन

पत्रकार गौरी लंकेश को मरणोपरांत एन्ना पोलितकोवस्काया पुरस्कार के लिए चुना गया है. उनके साथ पाकिस्तान की 31 वर्षीय सामाजिक कार्यकर्ता गुलालाई इस्माइल को सह-विजेता घोषित किया गया है. इस अवॉर्ड की घोषणा के साथ लंदन स्थित रीच ऑल वूमन इन वॉर (रॉ इन वॉर) ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है कि वरिष्ठ भारतीय पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश एन्ना पोलितकोवस्काया जैसी थीं. गौरी लंकेश की पांच सितंबर को बेंगलुरू में उनके घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

गौरी लंकेश की बहन कविता ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को कहा है की यह पुरस्कार उन सभी लोगों के लिए एक मनोबल वर्धक है जो लिखना और लड़ना चाहते हैं, यह पुरस्कार गौरी के सोच को सम्मानित करती है कि तुम मुझे कभी मौन नहीं कर सकते। लोग पत्रकारिता करने के नाम पर दुबारा सोच रहे हैं। जो लोग नैतिक काम करना चाहते हैं उनके बीच आशंकाएं है।"

वहीं, पाकिस्तान के उत्तरी शहर पेशावर में अवेयर गर्ल्स की सह-संस्थापक गुलालाई इस्माइल ने कहा है कि यह पुरस्कार उनके साझे संघर्ष और साहस को दी गई मान्यता है. गौरी के हत्या पर शोक जताते हुए उन्होंने कहा की “यह बहुत उदास करने वाली घटना थी कि लोकतंत्र का समर्थन करने वाली एक साहसी और बुलंद आवाज को चुप करा दिया गया”।

गुलालाई इस्माइल को उग्रवाद के खिलाफ बोलने के कारण सोशल मीडिया पर हिंसा की धमकियां दी गई है और नास्तिकता का आरोप लगाकर उन्हें इस्लामोफोबिक ब्रांड किया गया है।

Gi

लंदन स्थित संस्था रॉ इन वॉर यह अवॉर्ड रूसी पत्रकार एन्ना पोलितकोवस्काया के नाम पर देती है. यह पुरस्कार पोलिशकोस्काया की हत्या के 11 वीं वर्षगांठ का प्रतीक है. एन्ना पोलितकोवस्काया एक खोजी रिपोर्टर थी जिन्होंने विशेष रूप से चेचन्या में राज्य भ्रष्टाचार और अधिकारों के दुरुपयोग का खुलासा किया था. उनकी सात अक्टूबर 2006 को मास्को में हत्या कर दी गई थी.


कमेंट करें