नेशनल

4 साल बाद भी लाचार है मोदी सरकार, कहा- कालेधन की जानकारी जुटाने में 1 साल और चाहिए

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1717
| जून 29 , 2018 , 16:28 IST

विदेशों में जमा काला धन वापस लाने की बातें करने वाली मोदी सरकार से आम लोगों को एक बार फिर मायूसी ही हाथ लगी है। सरकार ने शुक्रवार को साफ किया कि स्विटजरलैंड में जमा भारतीयों के खातों की डिटेल्स पता करने में अभी एक साल और लगेगा। वित्त मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि जनवरी 2018 से लेकर दिसंबर 2018 तक के आंकड़े अगले साल मार्च तक मिल जाएंगे। द्विपक्षीय संधि के तहत स्विट्जरलैंड सरकार भारतीयों के खातों की जानकारी मुहैया करवाएगी लेकिन इस प्रक्रिया में अभी वक्त लगेगा।  

पीयूष गोयल का ये बयान स्विट्जरलैंड की सेंट्रल बैंकिंग अथॉरिटी स्विस नेशनल बैंक के गुरुवार को जारी आंकड़ों के बाद आया है। 

क्या कहते हैं स्विस बैंकों के आंकड़ें? 

स्विट्जरलैंड की सेंट्रल बैंकिंग अथॉरिटी स्विस नेशनल बैंक के मुताबिक स्विस बैंकों में भारतीयों की रकम में 50.2% इजाफा हुआ है।

साल 2017 के आखिरी महीनों तक भारतीयों के करीब 7,000 करोड़ रुपए स्विस बैंकों में जमा थे।

13 साल में स्विस बैंकों में भारतीयों के धन में ये अबतक की सबसे बड़ी ग्रोथ है। 

2004 में स्विस बैंकों में भारतीयों के पैसों में 56 फीसदी का उछाल देखा गया था। 

एसएनबी के ये आंकड़े ऐसे समय में जारी किए गए हैं जबकि कुछ महीने पहले ही भारत व स्विटजरलैंड के बीच सूचनाओं के स्वत: आदान प्रदान की एक नई व्यवस्था लागू की गई है। इस व्यवस्था का उद्देश्य काले धन की समस्या से निजात पाना है।

इस बीच स्विटजरलैंड के बैंकों का मुनाफा 2017 में 25% बढ़कर 9.8 अरब फ्रैंक हो गया। हालांकि इस दौरान इन बैंकों के विदेशी ग्राहकों की जमाओं में गिरावट आई। इससे पहले 2016 में यह मुनाफा घटकर लगभग आधा 7.9 अरब फ्रैंक रह गया था।

वहीं इस साल भारत के पड़ोसी पाकिस्तान द्वारा स्विस बैंक में जमा करवाए गये धन में गिरावट देखने को मिली है। 2017 में स्विस बैंकों में पाकिस्तानियों द्वारा जमा राशि में 21 फीसदी कमी देखी गयी है।

पाकिस्तानियों ने इस साल 1.15 अरब स्विस फ्रैंक (7,700 करोड़ रुपये) स्विट्जरलैंड के बैंकों में जमा कराए। हालांकि तीन साल से जमा में गिरावट के बावजूद पाकिस्तानियों की कुल जमा राशि भारतीयों से करीब 700 करोड़ रुपये ज्यादा है।

 

बता दें वित्त मंत्री मानते हैं कि स्विस बैंकों में जमा भारतीयों का पैसा पूरी तरह से काला धन नहीं है, शिकायतें मिलने पर सरकार कार्रवाई कर रही है। 


कमेंट करें