नेशनल

ऐतिहासिक पल, आधी रात को पीएम मोदी और राष्ट्रपति ने घंटी बजाकर लागू किया GST

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
106
| जुलाई 1 , 2017 , 07:47 IST | नई दिल्ली

एक देश-एक कर व्यवस्था यानी की जीएसटी का सपना अब पूरा हो गया। बीती रात संसद के केंद्रीय कक्ष में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घंटा बजाए जाने के साथ ही जीएसटी लागू हो गया। जिसके बाद वैट, सेवा कर और केंद्रीय उत्पाद शुल्क जैसे केंद्र और राज्यों के दर्जनभर से ज्यादा कर समाप्त हो गए हैं।

पीएम मोदी ने इस कर की तुलना आजादी से करते हुए कहा कि यह देश के आर्थिक एकीकरण में महत्वपूर्ण उपलब्धि है। वहीं राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संसद के केंद्रीय कक्ष में हुई विशेष बैठक को संबोधित करते हुए इसे ऐतिहासिक पल करार दिया और कहा कि यह कराधान के क्षेत्र में एक नया युग है जो कि केंद्र और राज्यों के बीच बनी व्यापक सहमति का परिणाम है।

जीएसटी के लागू होते ही एक नए युग की शुरूआत हो गई। संसद के भीतर सब राष्ट्रपति मुखर्जी को सुन रहे थे, तो संसद के बाहर का माहौल और भी ज्यादा सरगर्म हो चला था। लोग पटाखे जला रहे थे और खुशिया मना रहे थे क्योंकि ये आर्थिक आजादी का दौर था। राष्ट्रपति ने कहा कि जीएसटी विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा किया गया प्रयास है जिन्होंने दलगत राजनीति से उपर उठते हुए राष्ट्र को आगे रखा।

उन्होंने कहा कि यह ऐतिहासिक क्षण उस 14 साल लंबी यात्रा का समापन है जो दिसंबर 2002 में तब शुरू हुई थी जब परोक्ष कर के बारे में केलकर कार्य बल ने मूल्य वधर्ति कर सिद्धांत के आधार पर माल एवं सेवा कर का सुझाव दिया था। उन्होंने कहा कि वर्ष 2006-07 के आम बजट में जीएसटी का प्रस्ताव किया गया था।

राष्ट्रपति ने जीएसटी लागू होने को अपने लिए भी एक संतोष का क्षण बताया। उन्होंने कहा कि, यह मेरे लिए भी संतोष का पल है क्योंकि वित्त मंत्री के रूप में मैंने 22 मार्च 2011 में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया था। मैं डिजाइन एवं क्रियान्वयन से करीबी रूप से जुड़ा रहा तथा मुझे राज्यों के वित्त मंत्रियों के साथ औपचारिक एवं अनौपचारिक रूप से मुलाकात का अवसर मिला।

उन्होंने कहा कि, मुझे बताया गया कि जीएसटी को आधुनिक विश्व स्तरीय सूचना प्रौद्योगिकी प्रणाली के माध्यम से प्रशासित किया जाएगा।


कमेंट करें