राजनीति

दलितों के मंदिर में राहुल गांधी ने की पूजा, RSS को बताया मनुवादी

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
771
| नवंबर 13 , 2017 , 14:33 IST | पाटन

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को नॉर्थ गुजरात के पाटन में दलितों के प्रमुख वीर मेघ माया मंदिर में पूजा-अर्चना की। वीर मेघ माया को दलित समुदाय का माना जाता है। इससे इससे पहले राहुल गांधी रानी की वाव देखने पहुंचे और दलित समाज के लोगों से मिले। तीन दिन के राज्य के दौरे पर आए राहुल गांधी प्रचार के साथ-साथ मंदिरों में दर्शन कर रहे हैं।
इसकी शुरुआत उन्होंने अक्षरधाम मंदिर से की थी। यह मंदिर स्वामी नारायण पंथ का है और पटेल कम्युनिटी में इसके कई अनुयायी हैं। सोमवार को राहुल शंखेश्वर, बहुचराज मंदिर भी जाएंगे। इससे पहले उन्होंने रविवार को केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि गुजरात सरकार देश में सबसे करप्ट है।

RSS को बताया मनुवादी

राहुल ने दलित समाज के प्रोग्राम में कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) मनुवादी संगठन है, जो देश के जातिवादी सिस्टम को जैसा है वैसा ही बनाए रखना चाहता है।
अपनी नवसर्जन गुजरात यात्रा के तीसरे और आखिरी दिन उन्होंने कहा कि वे जातिवाद के विरोधी हैं, क्योंकि यह ऐसी व्यवस्था है जो इंसान को इंसान नहीं मानती। उन्होंने कहा कि वे दलितों से संबंधित मुद्दों को पार्टी के मेनिफेस्टो में शामिल करेंगे।

राहुल गांधी ने देखी 'रानी की वाव'

महा माया मंदिर में दर्शन से पहले राहुल वक्त निकाल कर यहां ऐतिहासिक रानी की वाव (बावड़ी) देखने पहुंचे। इस वाव के बारे में माना जाता है कि इसे चालुक्य वंश के शासक भीमदेव की याद में उनकी रानी उदयमती ने 11वीं सदी में महा गुर्जर स्थापत्य शैली में बनवाया था।

सरस्वती नदी के किनारे स्थित इस वाव में सीढ़ियों के 7 लेवल थे। यह नदी में बाढ़ के चलते मिट्टी के नीचे दब गया था और 80 के दशक में खुदाई के दौरान इसका पता चला।

पाटीदारों के गढ़ में होगा यात्रा का समापन

राहुल गांधी की यात्रा का आखिरी पड़ाव विसनगर होगा। यहां वे साेमवार शाम को पहुंचेंगे। यह पाटीदारों का गढ़ है। 2015 में यहीं से पाटीदार आंदोलन की शुरुआत हुई थी।


कमेंट करें