अभी-अभी

'घूंघट' वाले विज्ञापन पर खट्टर सरकार की हो रही किरकिरी, महिला सशक्तिकरण पर सवाल

अमितेष युवराज सिंह | 0
201
| जून 28 , 2017 , 14:58 IST

हरियाणा की मनोहरलाल खट्टर सरकार के एक विज्ञापन पर विवाद पैदा हो गया है। खट्टर सरकार ने ऐसा विज्ञापन दिया है जिसमें कहा गया है कि महिलाओं का 'घूंघट' में रहना हरियाणा की शान है। विपक्षी दलों ने सरकार के विज्ञापन पर सवाल उठाए हैं।

दरअसल, राज्य सरकार के पैसे से चलने वाली पत्रिका 'कृषि संवाद' में एक तस्वीर छपी है जिसमें महिला अपने सिर पर चारा लेकर जा रही है और कैप्शन में लिखा है, 'घूंघट की आन-बान, म्हारे हरियाणा की पहचान।' पत्रिका के कवर पेज पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की तस्वीर छपी है।

Banner

पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा का कहना है कि, ‘यह विज्ञापन भाजपा सरकार की पिछड़ी सोच दिखाता है। वहीं सरकार ने कहा है कि इसकी जांच कराएंगे। सरकार का पक्ष रखते हुए   बीजेपी नेता जवाहर यादव ने कहा,'हरियाणा सरकार इसकी निंदा करती है। विज्ञापन कैसे पब्लिश हुआ इसकी जांच की जाएगी।'

आपको बता दें कि हरियाणा देश के उन राज्यों में शामिल है जहां पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की संख्या काफी कम है। 2011 की जनगणना बताती है कि राज्य में 1000 पुरुषों पर सिर्फ 879 महिलाएं हैं। यही वजह है कि यह विज्ञापन विवादों के घेरे में आ गया है।

2015_3largeimg25_Mar_2015_014729880

विपक्ष का कहना है कि वैसे ही राज्य में महिलाओं की दशा खराब है और ऊपर से सरकार घूंघट जैसी कुरीति को बढ़ावा दे रही है। आलोचकों का यह भी कहना है कि 2015 में सत्ता संभालने के बाद मनोहर लाल खट्टर सरकार ने महिलाओं की दशा सुधारने का जो वादा किया था यह विज्ञापन उसके उलट है।

हालांकि विवाद खड़ा होने के बाद हरियाणा सरकार बचाव की मुद्रा में है। राज्य के स्वास्थ मंत्री अनिल विज का कहना है,

घूंघट रखना जरूरी नहीं है और हम इसे प्रोत्साहन नहीं देते । हालांकि यह भी सच है कि कुछ जगहों पर यह रिवाज चलन में है और उस पर किसी को ऐतराज नहीं हो सकता। वे देखेंगे कि यह विज्ञापन किस संदर्भ में छपा है।


कमेंट करें