नेशनल

सच उगलवाने के लिए पुलिस करवा सकती है हनीप्रीत का नार्को टेस्ट

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
237
| अक्टूबर 5 , 2017 , 11:45 IST | पंचकूला

पंचकूला कोर्ट से 6 दिन की पुलिस रिमांड मिलने के बाद हरियाणा पुलिस लगातार हनीप्रीत से पूछताछ कर रही है। इसका जिम्मा पंचकूला की आईजी ममता सिंह ने संभाला है। पुलिस पूछताछ के बाद भी हनीप्रीत कई सवालों के जबाव नहीं दे रही, जिसके लिए पुलिस उसका नार्कों टेस्ट करवा सकती है। सूत्रों के अनुसार हरियाणा पुलिस पंचकूला डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नार्कों टेस्ट करवाने को लेकर अर्जी लगाने की तैयारी में है। पुलिस पूछताछ में हनीप्रीत लगातार सवालों से बच रही है। वह पुलिस के सवालों के बदल-बदल कर जबाव दे रही है। जिससे वह पुलिस को गुमराह करने की कोशिश कर रही है।

फिलहाल पुलिस की एक टीम हनीप्रीत को लेकर पंचकूला सेक्टर 23 की चंडी मंडी थाने से सेक्टर 20 थाने पहुंची। वहां से हनीप्रीत को बठिंडा ले जाया जा रहा है, जहां वो दो दिन तक छुपी हुई थी।

पुलिस कमिश्नर का कहना है कि हनीप्रीत से पूछताछ हो रही है।जरूरत के हिसाब से हम उसे हर जगह ले जाएंगे। हमें हनीप्रीत की 6 दिन की रिमांड मिली है। अभी तक के पूछताछ में हनीप्रीत बहुत कुछ नहीं बताया है। आईजी ममता सिंह का कहना है कि हनीप्रीत अभी हर बात से इंकार कर रही है। अभी तक उसने किसी आरोप को स्वीकार नहीं किया है। वह केवल यही कह रही है कि वह बेकसूर है। उसने कुछ नहीं किया है। इसीलिए हमें उसे रिमांड पर लेना पड़ा है।

राष्ट्रद्रोह और हिंसा भड़काने सहित कई मामलों में आरोपी हनीप्रीत को पंचकूला कोर्ट ने 6 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा है। कोर्ट में सुनवाई के दौरान हनीप्रीत हाथ जोड़कर रोती रही और खुद को बेकसूर बताती रही। हरियाणा पुलिस ने 14 दिन की हिरासत मांगी थी, लेकिन कोर्ट ने फिलहाल 6 दिन हिरासत में ही उसे भेजा है। पुलिस हनीप्रीत से पूछताछ कर रही है।

हनीप्रीत से पूछे गए ये सवाल

- पिछले 38 दिन से वो कहां छिपी थी?

- 25 अगस्त को रोहतक की सुनारिया जेल से लौटने के बाद वो कहां गई?

- 25 अगस्त की रात से लेकर 3 अक्टूबर तक वो कहां-कहां गई?

- इस दौरान किस-किस ने उसकी मदद की थी?

- डेरा समर्थकों की हिंसा में उसकी क्या भूमिका थी?

- क्या राम रहीम को जेल पहुंचने से पहले ही भगाने की योजना थी?

- राम रहीम को भगाने के लिए क्या योजना बनाई गई थी?

- हनीप्रीत से सवाल हुआ कि 25 अगस्त को इतने हजारों डेरा समर्थक क्यों जुटे थे?

- डेरा समर्थकों को किसने और किसलिए बुलाया था?

- अबतक फरार चल रहे आदित्य इंसां और पवन इंसा के बारे में हनीप्रीत को क्या जानकारी है?

- पंचकूला में दंगा करवाने के लिए कितने रुपए भेजे गए?

- पंचकूला हिंसा में अहम रोल किनका था?

- हिंसा करवाने में राम रहीम का क्या रोल है?

- डेरे की 45 मेंबर कमेटी में शामिल लोगों का क्या रोल था?

क्या होता है नार्को टेस्ट-

नार्को परीक्षण का प्रयोग किसी व्यक्ति से जानकारी प्राप्त करने के लिए दिया जाता है जो या तो उस जानकारी को प्रदान करने में असमर्थ होता है या फिर वो उसे उपलब्ध कराने को तैयार नहीं होता दूसरे शब्दों में यह किसी व्यक्ति के मन से सत्य निकलवाने लिए किया प्रयोग जाता है। अधिकतर आपराधिक मामलों में ही नार्को परीक्षण का प्रयोग किया जाता है। हालांकि बहुत कम किन्तु यह भी संभव है कि नार्को टेस्ट के दौरान भी व्यक्ति सच न बोले। इस टेस्ट में व्यक्ति को ट्रुथ सीरम इंजेक्शन के द्वारा दिया जाता है जिससे व्यक्ति स्वाभविक रूप से बोलता है। नार्को विश्लेषण एक फोरेंसिक परीक्षण होता है, जिसे जाँच अधिकारी, मनोवैज्ञानिक, चिकित्सक और फोरेंसिक विशेषज्ञ की उपस्थिति में किया जाता है।


कमेंट करें