खेल

19वां ग्रैंड स्लैम जीतकर एटीपी रैंकिग में तीसरे स्थान पर पहुंचे फेडरर

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
66
| जुलाई 17 , 2017 , 18:11 IST | लंदन

अपने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम जीतने के साथ ही स्विट्जरलैंड के स्टार खिलाड़ी रोजर फेडरर (6,545 अंक) ने पेशेवर टेनिस संघ (एटीपी) रैंकिंग में तीसरा स्थान हासिल कर लिया है। फेडरर ने दो स्थान ऊपर उठकर तीसरे स्थान पर कब्जा जमाया है। 

समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार जारी हुई इस सूची में ब्रिटेन के स्टार खिलाड़ी एंडी मरे (7,750 अंक) शीर्ष स्थान पर बने हुए हैं।

 

स्विट्जरलैंड के 35 वर्षीय खिलाड़ी फेडरर ने वर्तमान सत्र में 14 टूर्नामेंटों में हिस्सा लिया और पांच में जीत हासिल की। इसमें दो ग्रैंड स्लैम आस्ट्रेलिया और विंबलडन शामिल हैं। 

विंबलडन के फाइनल में फेडरर के प्रतिद्वंद्वी रहे क्रोएशियाई खिलाड़ी मारिन सिलिक (5,075 अंक) छठे स्थान पर हैं। 

इसके अलावा स्पेन के राफेल नडाल (7,465 अंक) दूसरे, सर्बिया के स्टार खिलाड़ी नोवाक जोकोविक (6,325 अंक) चौथे स्थान पर हैं। 

स्विट्जरलैंड के खिलाड़ी स्टान वावरिंका (6,140 अंक) दो स्थान से फिसलते हुए पांचवें स्थान पर आ पहुंचे हैं। 

नीदरलैंड्स के डोमिनिक थीम (4,030 अंक) ने एक स्थान ऊपर उठते हुए सातवां और जापान के केई निशिकोरी (3,740 अंक) ने भी एक स्थान उपर उठते हुए आठवां स्थान हासिल किया है। 

कनाडा के मिलोस राओनिक (3,310 अंक) को स्थानों का नुकसान हुआ है। वह अब नौवें स्थान पर हैं। हालांकि, बुल्गेरिया के ग्रिगोर दिमित्रोव (3,160 अंक) ने एक स्थान पर ऊपर आते हुए शीर्ष 10वें में जगह बनाई है। 

रोजर फेडरर ने स्वीकार किया कि उन्होंने कभी सोचा भी नहीं था कि वह आठ बार विम्बलडन खिताब जीतेंगे और यदि उनसे कोई कहता कि 2017 में वह दो ग्रैंडस्लैम जीतेंगे तो वे  इस पर हसने लगते ।

तीन सप्ताह बाद 36 बरस के होने जा रहे फेडरर ने पीट सम्प्रास का रिकार्ड तोड़कर आठवां विम्बलडन खिताब जीता ।

उन्होंने फाइनल में मारिन सिलिच को 6.3, 6.1, 6.4 से मात दी।

सोलह साल पहले फेडरर ने सम्प्रास को हराकर विम्बलडन जीता था। अब 19 ग्रैंडस्लैम फेडरर के नाम है जबकि रफेल नडाल उनसे चार खिताब पीछे है।



फेडरर ने कहा ,‘‘पीट को हराने के बाद मैने कभी सोचा भी नहीं था कि मैं इतना कामयाब होऊंगा । मुझे लगा था कि कभी विम्बलडन फाइनल तक पहुंचूंगा और जीतने का कोई मौका मिलेगा। कभी सेाचा नहीं था कि आठ खिताब अपने नाम करूंगा । इसके लिये या तो आप अपार प्रतिभाशाली हों या माता पिता और कोच तीन बरस की उम्र से आपको कोर्ट पर तैयार करने में लग जाये । मैं उन बच्चों में से नहीं था । ’’

उन्होंने कहा ,‘‘ मुझे पता था कि मैं एक बार फिर खिताब जीतूंगा पर इस स्तर पर कभी नहीं सोचा था । यदि मुझसे कोई कहता कि मैं इस साल दो ग्रैंडस्लैम जीतूंगा तो मैं हंस देता । ’’


कमेंट करें