ख़ास रिपोर्ट

14 सितंबर को क्यों मनाते हैं हिन्दी दिवस, जानें इसका महत्व (खास रिपोर्ट)

ललिता सेन, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
215
| सितंबर 14 , 2017 , 10:25 IST | नई दिल्ली

14 सितंबर को भारत में हिंदी दिवस मनाया जाता है। क्योंकि 1949 में इसी दिन हिंदी को राजभाषा का दर्जा मिला था। 26 जनवरी, 1950 को संविधान लागू होने के बाद इस पर मुहर लगाई गई। संव‍िधान के अनुच्‍छेद 343 के तहत देवनागरी ल‍िप‍ि में ल‍िखी जाने वाली हिंदी को सरकारी कामकाज की भाषा (अंग्रेजी के अत‍िर‍िक्‍त) के रूप में मान्‍यता दी गई है। 14 सितंबर को पूरे देश में कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिसका मुख्‍य उद्देश्‍य हिंदी को बढ़ावा देना है। इतना ही नहीं 10 जनवरी को विश्‍व हिंदी दिवस भी मनाया जाता है।

आज पूरे देश में हिंदी का प्रचार और प्रसार जोरशोर से हो रहा है। हिंदी दिवस के मौके पर क्‍यों न इसकी बधाई दोस्‍तों और रिश्‍तेदारों को दी जाए। न्यूज वर्ल्ड इंडिया की तरफ से सभी देशवासियों को हिंदी दिवस की बधाईयां।

क्या आप जानते हैं कि 14 सितंबर को हिंदी दिवस क्यों मनाया जाता है?? इसके पीछे एक वजह है। आइए हम आपको बताते हैं। साल 1947 में जब अंग्रेजी हुकूमत से भारद देश आजाद हुआ तो देश के सामने भाषा को लेकर एक सबसे बड़ा सवाल था। क्योंकि भारत बहुभाषी देश है, यहां सैकड़ों भाषाएं और बोलियां बोली जाती है।

Hindi_diwas__123_

फिर काफी सोच विचार के बाद हिंदी और अंग्रेजी को नए राष्ट्र की भाषा के रूप में चुना गया। संविधान सभा ने देवनागरी लिपी में लिखी हिंदी को अंग्रजों के साथ राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया था। इसके बाद 14 सितंबर 1949 में हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी इसपर सर्वसम्मति से मंजूरी दी गई।

इस दिन के महत्व देखते हुए देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने कहा कि हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाए।बता दें कि पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 में मनाया गया था।

वहीं, साल 1918 में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने हिन्दी साहित्य सम्मेलन में हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने को कहा था। इसे गांधी जी ने जनमानस की भाषा भी कहा था।

आज हिंदी दुनिया में बहुत तेजी से लोकप्रिय भाषा के रूप में विकसित होती जा रही है। अब तो इंटरनेट पर भी हिंदी की मांग पिछले कुछ सालों में अंग्रेजी की तुलना में 5 गुना तेजी से बढ़ी है। अब सबसे मसला ये है कि लोगों को हिंदी भाषा पर गर्व तो है लेकिन क्या वह अपनी भाषा के गौरवशाली इतिहास और उससे जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों को जानते हैं? आज हम आपको हिंदी से जुड़े कुछ ऐसे ही तथ्य आपको बताने जा रहे हैं जिन्हें जानकर आपका अपनी भाषा पर गर्व और अधिक बढ़ जाएगा।

1. हिंदी भाषा को 1950 में भारत की आधिकारिक भाषा का दर्जा मिला। फिर भारत सरकार ने 1954 में हिंदी व्याकरण तैयार करने के लिए समिति का गठन किया गया।

Hindi_1504625691

2. भारत के बाहर, हिन्दी बोलने वाले संयुक्त राज्य अमेरिका में 648,983, दक्षिण अफ्रीका में 890,292, मॉरीशस में 685,170, यमन में 232,760, सिंगापुर में 5,000, युगांडा में 147,000, नेपाल में करीब 8 लाख, जर्मनी में 30,000 और न्यूजीलैंड में 20,000 हैं। 20 से ज्यादा देशों में हिंदी भाषा का इस्तेमाल किया जाता है।

3. हर साल इंटरनेट पर हिंदी कंटेंट की मांग 94 फीसद बढ़ रही है।

4. हिंदी सबसे ज्यादा बोले जाने वाली भाषाओ में से एक है। हिंदी का इस्तेमाल करीब 60 करोड़ लोग करते है।

5. विश्व के 176 विश्वविद्यालयों में हिंदी पढ़ाई जाती है, जिसमें से 45 विश्वविघालयों सिर्फ अमेरिका के हैं। इसके अलावा विदेश में 25 से ज्यादा पत्र-पत्रिकाएं रोज हिंदी में निकलती हैं।

6. सरकार ने संयुक्त राष्ट्र की आधिकारिक भाषाओं में हिंदी को शामिल कराने के लिए सालाना 250 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।

7. बिहार पहला राज्य है जिसने हिंदी को अपनी आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया।


कमेंट करें