नेशनल

विदेश नीति पर सुषमा का दो टूक जवाब, विपक्ष की उड़ाई धज्जियां

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
237
| अगस्त 3 , 2017 , 19:40 IST | नई दिल्ली

संसद के मानसून सत्र के दौरान राज्यसभा में गुरुवार को विदेश नीति पर जमकर चर्चा और बहस हुई। चर्चा के दौरान विपक्ष ने चीन और पाकिस्तान के मुद्दे पर सरकार को घेरा। इसके बाद शाम को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में जवाब दिया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने अपनी विदेश नीति से व्यक्तिगत तौर पर सम्मान अर्जित किया, जबकि पीएम मोदी की विदेश नीति ने पूरे देश का नाम बढ़ाया।

ट्रंप को पीएम मोदी ने दी थी चुनौती

विदेश नीति पर बोलते हुए सुषमा स्वराज ने कहा कि मोदी ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्होंने जलवायु समझौते पर डोनाल्ड ट्रंप को चुनौती दे दी थी। उन्होंने शरद यादव के उस बयान पर भी टिप्पणी की जिसमें शरद यादव ने कहा था कि अमेरिका की नजर में भारत रमुआ और हरिया है यानि सकेंड क्लास का देश है।

इस पर जवाब देते हुए सुषमा ने कहा कि मोदी में ट्रंप को चुनौती देने का माद्दा है। न्होंने कहा कि जलवायु समझौते को लेकर पीएम ने पूरी दुनिया के सामने अपना पक्ष रखा था और कहा था कि पर्यावरण संरक्षण की जिम्मेदारी पिछले 5 हजार सालों से भारत के लिए अहम है। सुषमा ने ट्रंप को साफ जवाब दिया था। उन्होंने स्पष्ट किया कि मोदी- ट्रंप की मुलाकात के बाद रिश्ते सुधरे हैं अमेरिका ने वीजा नीति में अहम बदलाव किए हैं। 

विपक्ष को भारत का पक्ष समझना चाहिए: सुषमा स्वराज

चीन से विवाद के मुद्दे पर बोलते हुए सुषमा स्वराज ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है। बता दें कि राहुल गांधी ने विवाद के बीच चीन के राजदूत से मुलाकात की है। सुषमा ने परोक्ष तौर पर सवाल पूछा है कि राहुल गांधी आखिर चीनी राजदूत से क्यों मिलें?

वहीं कांग्रेस ने कहा है कि अगर चीन के राजदूत से मुलाकात हुई तो उसमें गलत क्या है।

सुषमा ने कहा पाकिस्तान से हमने दोस्ती का हाथ बढ़ाया था

सुषमा स्वराज ने कहा कि पाकिस्तान से रिश्तों को सुधारने के लिए नवाज शरीफ के व्यक्तिगत आग्रह पर पीएम मोदी, पाकिस्तान गए थे। लेकिन आतंक और बातचीत के साथ नहीं हो सकती. 8 जुलाई को कश्मीर में बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद हालत बिगड़े और इसके पीछे पाक का हाथ था। ऐसे माहौल में पाकिस्तान से बातचीत नहीं हो सकती।

सुषमा स्वराज का कांग्रेस पर निशाना

चीन के घेरेबंदी पर बोलते हुए सुषमा स्वराज ने कहा कि चीन की घेराबंदी की शुरुआत कांग्रेस के सरकार के समय ही शुरू हो गई थी। उन्होंने कांग्रेस पर सवाल उठाते हुए कहा कि चीन की चिंता कांग्रेस ने अपने सरकार के दौरान क्यों नहीं की। सुषमा ने कहा है कि कांग्रेस की विदेश नीतियां नाकाम रही हैं।

अमेरिका-रूस दोनों आज भारत के साथ

भारत की विदेश नीति पर बोलते हुए सुषमा स्वराज ने कहा है कि हमारे सरकार की उपलब्धि है कि आज आतंकवाद के खिलाफ अमेरिका और रूस दोनों भारत के साथ है। पीएम मोदी की इजरायल यात्रा पर स्वराज ने कहा है कि इस वक्त इजरायल पूरी तरह से हमारे साथ है, लेकिन भारत कभी इजरायल-फिलिस्तिन शांति के खिलाफ नहीं जा सकता है।

वीजा पर सुषमा स्वराज की दो टूक

सुषमा स्वराज ने कहा कि पीएम मोदी ने ही अमेरिका में स्पाउज वीजा दिलवाया है। स्वराज ने अपनी बात पर जोर डालते हुए कहा है कि यूपीए के समय अमेरिकी वीजा घटा था, 65 हजार वीजा यूपीए सरकार के समय में मिला था।

भारत की आर्थिक क्षमता बढ़ाने में चीन का भी योगदान

सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में कहा कि किसी भी मुद्दे का समाधान युद्ध से नहीं निकलता, संवाद से निकलता है। वहीं चीन पर उन्होंने कहा कि भारत की आर्थिक क्षमता लगातार बढ़ रही है। इसमें चीन का भी योगदान है।

विदेश मंत्री अच्छा पर इस्तेमाल नहीं हुआ - शरद यादव

चर्चा के दौरान जदयू नेता शरद यादव बोले कि आज के समय में चीन की ओर से जो बयान आते हैं तो काफी तकलीफ होती है। हमारे देश की जनता अगर मजबूत होगी, तो ही हमारी सेना भी मजबूत होगी। हमने पिछले 70 वर्षों में अपनी जनता को मजबूत नहीं किया है। उन्होंने कहा कि चीन में हर कोई इस मुद्दे पर एक है, लेकिन हमारा देश अपनी ही दिक्कतों से जूझ रहा है। देश में किसान मर रहा है, सभी की अपनी अलग-अलग समस्या है। शरद यादव ने कहा कि 1971 में भारतीय सेना ने अकेले दम पर युद्ध लड़ा, लेकिन इंदिरा गांधी जी की चतुराई भी काफी काम आई थी। शरद यादव ने कहा कि 

आनंद शर्मा का पीएम पर वार

चर्चा के दौरान कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि पाकिस्तान के मुद्दे पर सरकार की नीति साफ नहीं है, पहले कहते हैं कि बात करेंगे लेकिन एक ही बार में बात को खत्म भी कर दिया जाता है। आनंद शर्मा ने कहा कि ऐसा क्या हुआ कि भारत के प्रधानमंत्री अफगानिस्तान के दौरे से लौटते हुए लाहौर चले गए। आनंद शर्मा बोले कि जब पीएम मोदी वहां पर उतरे तो वहां पर उन्हें सलामी नहीं मिली, ना ही गॉर्ड ऑफ ऑनर नहीं मिला बल्कि तोहफे में आतंकवादी हमले मिले।


कमेंट करें