नेशनल

अग्नि-5 का सफल परीक्षण, चीन और पाक के हर कोने को भेदने में है सक्षम

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
461
| जून 3 , 2018 , 13:03 IST

भारत रविवार को परमाणु हथियार ले जाने सक्षम अग्नि-5 मिसाइल का अब्दुल कलाम आईलैंड के इंटेग्रेटिड टेस्ट रेंज (आईटीआर) से सफल परीक्षण किया गया है। यह परीक्षण ओडिशा के बालासोर जिले में हुआ। इस आईलैंडज को व्हीलर आईलैंड के नाम से भी जाना जाता है।

इसका आखिरी बार सफल परीक्षण इसी साल 18 जनवरी को किया गया था। अग्नि-5 का पहला परीक्षण 19 अप्रैल, 2012 को किया गया था। दूसरी बार सितंबर 15, 2013 को, तीसरी बार 31 जनवरी 2015 को और चौथी बार 26 दिसबंर 2016 को इसका परीक्षण हुआ।

यह बेहद शक्तिशाली मिसाइल 5,000 किलोमीटर तक मार कर सकती है और इसकी रेंज में भारत के पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान भी हैं। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा स्वदेश निर्मित यह परमाणु क्षमता वाली सरफेस-टू-सरफेस मिसाइल 5,000 से 8,000 किलोमीटर तक के दायरे में निशाना साध सकती है।

यह चीन के लगभग हर हिस्से में पहुंच सकती है। 50 टन के भार वाली इस मिसाइल की लंबाई 17 मीटर और चौड़ाई 2 मीटर है। यह अपने साथ एक टन से ज्यादा के परमाणु हथियार ले जा सकती है।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के मुताबिक, अग्नि-5 श्रृंखला के अन्य मिसाइलों के विपरीत, अग्नि-5 नेविगेशन और गाइडेंस, वॉरहैड और इंजन के संदर्भ में नई प्रौद्योगिकियों के साथ सबसे उन्नत है।

अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल की प्रमुख खासियतें...

-अग्नि 5 बैलिस्टिक मिसाइल कई हथियार ले जाने में सक्षम है।

-यह मिसाइल एंटी बैलिस्टिक मिसाइल सिस्टम के खिलाफ कार्रवाई करने में सक्षम है।

-इसकी रेंज में भारत के पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान भी आएंगे।

-इसे रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) ने बनाया है।

-यह भारत की लंबी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलों में से एक है।

-इस मिसाइल की ऊंचाई 17 मीटर, जबकि व्यास 2 मीटर है।

-यह मिसाइल डेढ़ टन तक परमाणु हथियार ले जा सकती है।

-इसका वजन करीब 20 टन है।

-इसकी गति ध्वनि की गति से 24 गुना ज्यादा है।


कमेंट करें