विज्ञान/टेक्नोलॉजी

भारतीय मूल की वैज्ञानिक का कमाल, बनाया Rape रोकने वाला स्टीकर (Video)

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
676
| जुलाई 31 , 2017 , 13:52 IST | नई दिल्ली

भारतीय मूल की वैज्ञानिक और Massachusetts Institute of Technology की छात्रा मनीषा मोहन ने रेप रोकने वाले स्टीकर की खोज की है, उन्होंने स्टीकर जैसे दिखने वाले एक सेंसर की खोज की है जो रेप की घटना होते ही दोस्तों और परिवारवलों को अलर्ट भेजेगा। इसमें लगा ब्लूटूथ स्मार्टफोन एप से जुड़ा है। यह सेंसर जब शरीर से जबरदस्ती कपड़ें उतारे जाते हैं उस स्थिती को भाप लेता है और अलर्ट भेजता है।

सेंसर तब अलर्ट भेजेगा जब पीड़िता लड़ने की स्थिति में नहीं है या वो ठीक से चल नहीं पा रही है या फिर वो छोटी बच्ची है। मनीषा ने बताया कि ये यंत्र तब भी काम करता है, जब पीड़िता बेहोश हो या लड़ने की हालत में न हो।

दो मोड्स में करता है काम

यह सेंसर दो मोड्स में काम करता है। पैसिव मोड में यह मैनुअली काम करता है। यानी किसी खतरे का अंदेशा होने पर लड़की इसका बटन दबाकर आसपास के लोगों को अलर्ट करती है। बटन दबाते ही तेज अलार्म बजने लगेगा या दोस्तों को कॉल भी लग जाती है।
वहीं, एक्ट‍िव मोड में यह सेंसर बाहरी सिग्नल्स के जरिये खतरे का अंदाजा लगाता है।

उदाहरण के तौर पर अगर कोई पीड़िता के शरीर से कपड़े उतारने की कोशिश कर रहा है तो यह सेंसर उसके स्मार्टफोन पर एक संदेश भेजता है, जिससे सेंसर यह सुनिश्चत करेगा कि लड़की चेतना अवस्था में है या नहीं। भेजे गए इस संदेश का रिप्लाई 30 सेकेंड के अंदर ना आने पर आसपास के लोगों को अलर्ट करने के लिए फोन तेज आवाज करने लगता है।

अगर लड़की इस अलार्म को 20 सेकेंड के अंदर बंद नहीं करती है, तो ऐप यह मान लेता है कि लड़की मुसीबत में है और वह उसके परिवार और दोस्तों के पास डिस्ट्रेस सिग्नल भेजना शुरू कर देता है, जिसमें पीड़िता कहां है, उसका पता भी होता है।

कपड़े में कैसे लगा है स्टिकर

इस स्टिकर को लड़की इनरवियर में लगा सकती है। ब्रा में स्टिकर की तरह प्रवाहशील स्तर और हाइड्रोशील जेल लगा है। यदि कोई इस हाइड्रोशील जेल लगे ब्रा को बलपूर्वक खींचने की कोशिश करेगा तो ये लेयर एक्टिव हो जाएगा। फिर यूजर के फोन पर एक अलर्ट भेजेगा और तेज अलार्म देगा।

 

10_42_428616000manisha mohan2-ll