नेशनल

केमिकल वॉर से निपटेंगे भारतीय सैनिक, अमेरिका से मिली 75 मिलियन डॉलर डील को मंजूरी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
146
| मई 15 , 2017 , 16:23 IST | वाशिंगटन

किसी भी संभावित रसायनिक हमले से निपटने के लिए सरकार ने भारतीय सेना को आधुनिक सुविधाओं से लैस करने का फैसला लिया है। अमेरिका से भारत हाई-टेक केमिकल प्रोटेक्टिव सूट खरीदेगा। भारतीय सैनिकों को बायोलॉजिकल और केमिकल वॉर के दौरान हमलों से बचने के लिए यह सूट पहनना होंगे। ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने 75 मिलियन डॉलर की इस डील को मंजूरी दी हैं।अमेरिका की डिफेंस सर्विसेज ने इस सूट को तैयार किया है।

Court-2_1494836515 (1)

इस कॉमन प्रोटेक्टिव सूट JSLIST में सूट, बूट्स और ग्लोव्स शामिल हैं और इन्हें दूषित  एरिया में 24 घंटे पहना जा सकता है। इस सूट में केमिकल प्रोटेक्टिव मास्क भी शामिल है। इस मास्क की मदद से भारतीय जवान किसी भी केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर वॉर में सुरक्षित रहेंगें। 

JSLIST के पैकेज में 38,034 यूनिट्स तैयार हैं। हर यूनिट में ट्राउजर्स, ग्लोब्स, बूट्स के पेयर्स और NBC बैग शामिल होंगे। इसके अलावा 854 एप्रन्स, 854 अल्टरनेटिव एप्रन्स, 9509 क्विक डॉफ हुड्स और 114102 M61 फिल्टर्स भी होंगे। इस पूरे पैकेज में 38034 M50 जनरल मास्क भी शामिल होंगे।

Court-1_1494836515 (1)

बता दें की पहली बार अमेरिका केमिकल, बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर सपोर्ट इक्विपमेंट बेच रहा है। एक ऑफिशयल के अनुसार भारत और अमेरिका के बीच यह डिफेंस पार्टनरशिप बहुत अहम है। 10 वर्ष पहले भारत और अमेरिका के बीच सुरक्षा व्यापार न के बराबर था। पिछले कुछ सालों में अमेरिका ने भारत से  10 अरब डॉलर से ज्यादा की डिफेंस डील साइन की है। 11 मई को ही अमेरिका ने भारत को CBRN सपोर्ट इक्विपमेंट की सेल का एलान किया है। यह पहली बड़ी फॉरेन मिलिट्री सेल है जिसे ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन ने मंजूरी दी है।

1200px-MOPP_4_high_res


कमेंट करें