नेशनल

भारतीय सेना ने डोकलाम में गाड़े परमानेंट तंबू, चीन की धमकी को किया नजरअंदाज

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
163
| जुलाई 9 , 2017 , 16:43 IST | गंगटोक

भारतीय सेना ने चीन की धमकी को नजरअंदाज कर ने सिक्किम के डोकलाम इलाके में लंबे वक्त तक रुकने का फैसला किया है। आर्मी जवानों ने डोकलाम में बजाब्ते अपने तंबू गाड़ दिए हैं। इससे पहले चीन ने भारत को कहा था कि वो अपने सैनिक वहां से तुरंत वापस बुला ले, नहीं तो स्थिति और बिगड़ सकती है। बता दें कि डोकलाम इलाके में 22 दिन से भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने हैं।

Army

डोकलाम भारत-भूटान-चीन का है ट्राई जंक्शन

गौरतलब है कि डोकलाम इलाका एक ट्राई जंक्शन (तीन देशों की सीमाएं मिलने वाली जगह) है। चीन यहां सड़क बनाना चाहता है, लेकिन भारत और भूटान इसका विरोध कर रहे हैं। अब इंडियन आर्मी के जवानों के करीब 10 हजार फीट ऊंचे इस विवादित एरिया में तंबू गाड़ने का मतलब है कि उनके वहां से पीछे हटने की संभावना तब तक नहीं है, जब तक कि चीन की PLA (पीपुल्स लिबरेशन आर्मी) के जवान वहां डटे रहेंगे।
सेना के अधिकारिक सूत्रों ने ने कहा कि सैनिकों के रहने की जगह पर सामानों की सप्लाई लगातार की जा रही है। ये इस बात का संकेत है कि इंडियन आर्मी ने चीनी सेना के आगे किसी तरह के दबाव में नहीं है।

Doklam

डोकलाम पर अड़ा हुआ है चीन

सिक्किम बॉर्डर मसले पर चीन अब तक अड़ा हुआ है। उसने तीखे लहजे में कई बार भारत को धमकी दी है और ये भी कहा है कि ताजा हालात में चीन समझौता नहीं करेगा, लिहाजा गेंद अब भारत के पाले में है। हालांकि सिक्युरिटी के लिहाज से देखें तो मौजूदा तनाव को खत्म करने में कोई एकतरफा अप्रोच काम नहीं आ सकती।

Doklam 1

दोनों देश बॉर्डर विवाद को हल करने के लिए 2012 में एक मैकेनिज्म पर सहमत हुए थे, जिसके तहत कई लेवल पर बातचीत हो भी चुकी थी। लेकिन ये मैकेनिज्म मौजूदा मामले में काम नहीं आया क्योंकि विवाद भूटान ट्राई जंक्शन के पास है, जहां चीन एक सड़क बनाने की कोशिश कर रहा है। ये इलाका रणनीतिक रूप से काफी अहम है इसीलिए यहां 3 हफ्तों से तनाव बरकरार है।

भारत का क्या है रवैया

नई दिल्ली ने पहले ही चीन को बता दिया था कि इस कार्रवाई से इलाके की मौजूदा स्थिति में अहम बदलाव आएगा, भारत की सिक्युरिटी के लिए ये गंभीर चिंता का विषय है। रोड लिंक से चीन को भारत पर एक बड़ी मिलिट्री एडवान्टेज हासिल होगी। इस एरिया का भारत में नाम डोका ला है जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है। चीन दावा करता है कि ये उसके डोंगलांग रीजन का हिस्सा है।


कमेंट करें