विज्ञान/टेक्नोलॉजी

भारतीय छात्र ने बनाया दुनिया का सबसे छोटा सैटेलाइट, 21 जून को स्पेस में लॉन्च करेगा NASA

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
400
| मई 15 , 2017 , 18:47 IST | चेन्नई

दुनिया की सबसे बड़ी स्पेस एजेंसी नासा अगले महीने तमिलनाडु के 18 साल के छात्र का सैटेलाइट लॉन्च कर इतिहास रचेगी । तमिलनाडु के पल्लापट्टी कस्बे के 12वीं के छात्र रिफत शारुक ने एक बहुत छोटा सैटेलाइट बनाया है जिसे दुनिया का सबसे छोटा सैटेलाइट कहा जा रहा है। इस सैटेलाइट का नाम भारत के महान वैज्ञानिक और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है। इस कलामसैट कहा जा रहा है।

Kalamsat-1494762867

 


एक कॉन्टेस्ट के लिए बनाए गए इस सैटेलाइट को नासा 21 जून को स्पेस में छोड़ेगा।
नासा के 240 मिनट के मिशन में कलामसैट 12 मिनट के बाद ऑर्बिट में छोड़ दिया जाएगा। कलामसैट में कई तरह के सेंसर और सोलर पैनल भी लगाए गए हैं।
बता दें कि नासा पहली बार किसी भारतीय छात्र के प्रयोग को अपने मिशन में शामिल कर रहा है।

Kalamsat02_149485233

 


कॉर्बन फाइबर पॉलिमर से बना है कलामसैट 


रिफत ने बताया,

कलामसैट को कॉर्बन फाइबर पॉलिमर से बनाया है, जो किसी स्मार्टफोन से भी हल्का है। नासा के कॉन्टेस्ट 'क्यूब्स इन स्पेस' और 'आई डूडल लर्निंग' के तहत इसे बनाया है। सैटेलाइट एक टेक्नोलॉजी डेमोन्सटेटर की तरह काम करेगा।''
'सैटेलाइट को बनाने के लिए सबसे कठिन काम हल्के मटेरियल को खोजना था। इसके लिए काफी रिसर्च करनी पड़ी। कमालसैट नासा के मिशन में 3D प्रिंटेड कॉर्बन फाइबर की परफार्मेंस को डेमोन्सट्रेट करेगा।


मैं बहुत खुश हूं। नासा साइंटिस्ट और इंजीनियर्स के टेलेंट को जज करने के लिए यह कॉन्टेस्ट कराती है। सैटेलाइट बनाने के लिए 'स्पेस किड्ज इंडिया' अॉर्गेनाइजेशन ने सपोर्ट किया।



Kalamsat01_149485233


कमेंट करें

अजीज तडवी

नासा ने कलामसैट अंतरिक्ष मे सफलता से स्थापित किया है । भारतीय स्टूंडट को बंधाई ! भारतीय शिक्षाप्रणाली को 21 वी सदीनुसार बनाया जाय । नई पिढी तैय्यार हो ! भविष्य के लिए सभी भारतीय स्टूडट को बंधाई!!