नेशनल

कश्मीर में एक घुसपैठिया ढेर, गोलीबारी में 2 बच्चों की भी मौत

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
140
| अक्टूबर 2 , 2017 , 12:00 IST | जम्मू-कश्मीर

जम्मू-कश्मीर के केरन सेक्टर में सोमवार को सिक्युरिटी फोर्स ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम करते हुए एक घुसपैठिए को मार गिराया। फिलहाल सर्च ऑपरेशन जारी है। वहीं, पुंछ में पाक ने सीजफायर वॉयलेशन किया। केरनी और दिगवार सेक्टर में हुई गोलाबारी में 3 लोग जख्मी हो गए। उड़ी के जोरावर इलाके में 26 सितंबर को सिक्युरिटी फोर्स ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया था। फोर्स ने एनकाउंटर में एक आतंकी को भी मार गिराया। 

उड़ी ब्रिगेड के डिप्टी कमांडर हरप्रीत सिंह ने बताया था कि उड़ी के कालगई इलाके में कुछ आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। इस पर 24 सितंबर को आर्मी और पुलिस ने तलाशी अभियान शुरू किया। इसी दौरान आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी।

24 सितंबर को सिक्युरिटी फोर्स की जवाबी कार्रवाई में 3 आतंकी मारे गए थे। एक जवान और 3 सिविलियन भी जख्मी हुए। बाद में सोमवार को भी एक आतंकी को मार गिराया गया। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद के मुताबिक, "आतंकियों की साजिश सुसाइड अटैक करने की थी, जैसा कि पिछले साल उड़ी में आर्मी बेस पर हुए हमले में एक आतंकी ने किया था। एक बड़ी त्रासदी टल गई। पुलिस और आर्मी को पहले ही इसकी सूचना मिल गई थी। लिहाजा हमले को रोकने के लिए ज्वाइंट ऑपरेशन चलाया गया, जिसमें हम कामयाब रहे।"

NBT-image

बता दें कि दो महीने में 19 आतंकी मारे जा चुके हैं। अगस्त महीने में 6 बार अलग-अलग इलाकों में एनकाउंटर हुआ। इसमें 12 अातंकी मारे गए। 2 जवान शहीद हुए। वहीं सितम्बर में उड़ी में 24, 25 और 26 सितंबर को हुए एनकाउंटर को मिलाकर इस महीने में अब तक 7 आतंकी मारे जा चुके हैं। 2 सितंबर को कुलगाम में एनकाउंटर में सिक्युरिटी फोर्सेस ने लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी इश्फाक पदेर को मार गिराया था। 9 सितंबर को घाटी में हिजबुल मुजाहिदीन का आतंकी तारिक भट मारा गया था। इसके दो दिन बाद लश्कर-ए-तैयबा के आदिल डार को हथियारों के साथ अरेस्ट किया गया था।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल अब तक कश्मीर में 144 आतंकी मारे जा चुके हैं। यह संख्या इस दशक में सबसे ज्यादा है। इससे पहले 2016 में 150 आतंकी मारे गए थे, लेकिन वो आंकड़ा पूरे साल का था।


कमेंट करें