मनोरंजन

अपनी क्यूट स्माइल से जूही चावला ने लाखों दिलों पर किया राज| 5 कहानियां

आरती यादव, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
187
| नवंबर 13 , 2017 , 11:57 IST | मुंबई

खूबसूरत, चुलबली और जुदा अंदाज वाली जूही चावला का सोमवार को जन्मदिन है। जूही  49 साल की हो गई हैं। मिस इंडिया बनने से लेकर एक सशक्त अभिनेत्री बनने का उनका सफर बेहद शानदार रहा। आज भी 49 साल की उम्र में जूही फिल्मों में सक्रिय हैं। उनके जन्मदिन पर हम आपको बताते हैं जूही की जिंदगी से जुड़ी कहानियां।

593296687a431.image

1. जूही ने जीता मिस इंडिया का खिताब

पंजाब के अंबाला में 13 नवंबर 1967 को चावला परिवार में जन्मीं जूही दिल्ली होते हुए मुंबई पहुंची। पढ़ाई में हमेशा अव्वल रहीं जूही की फिल्मों में आने की कोई योजना नहीं थी। उन्होंने कॉलेज में पढ़ाई के दौरान यूं ही फेमिना मिस इंडिया के लिए फॉर्म भरा था। जूही ने साल 1984 में 'मिस इंडिया' की खिताब जीता।

6484_untitled-2

2. जूही का रूपहले पर्दे का सफर

इसके बाद शुरू हुआ जूही का रूपहले पर्दे का सफर। जूही ने मल्टीस्टारर फिल्म 'सल्तनत' से अपना फिल्मी सफर शुरू किया। 1988 में आमिर खान के साथ आई जूही की फिल्म 'कयामत से कयामत तक' ने बड़े पर्दे पर जबरदस्त सफलता हासिल की।

0682fd6f842a2a3308ca9bef03f92461--juhi-chawla-bollywood

3. कयामत के लिए मिला बेस्ट न्यूफेस का पुरस्कार

फिल्म 'कयामत से कयामत तक' की सफलता के बाद रातों रात जूही की गिनती उस समय हिंदी सिनेमा पर राज करने वाली अभिनेत्रियों में की जाने लगी। इस फिल्म को फिल्मफेयर में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का खिताब मिला और जूही को फिल्म के लिए बेस्ट न्यूफेस का पुरस्कार मिला। 1990 का दशक जूही के लिए काफी अच्छा रहा इस दशक में 1990 में 'प्रतिबंध' और 'स्वर्ग', 1992 में 'बोल राधा बोल' और 'राजू बन गया जेंटलमैन' जैसी हिट फिल्में दीं। साल 1993 जूही के नाम रहा इस साल जूही की सन्नी देओल के साथ में आई 'लुटेरे' जैकी श्रॉफ के साथ यश चोपड़ा की 'आईना', आमिर खान के साथ महेश भट्ट की रोमांटिक कॉमेडी 'हम हैं राही प्यार के' इसके अलावा 1994 में 'साजन का घर', 1997 में 'यस बॉस' और 'इश्क', 1999 में 'अर्जुन पंडित’ जैसी फिल्में भी सफल रहीं।

1d1aee220444c81d7ec42dc131ae449d--vintage-bollywood-juhi-chawla

4. जब जूही चावला पर टूटा दुखों का पहाड़

इस दौरान जब जूही अपने करियर की ऊंचाइयां छू रहीं थीं, दूसरी ओर उनके व्यक्तिगत जीवन में उन्हें कई बड़े झटके लगे, जिनसे वह टूट गईं। 1998 में जब वह 'डुप्लीकेट' की शूटिंग पर थीं, उनकी मां मोना का एक दुर्घटना में निधन हो गया। इसके बाद उनके पिता का भी लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। साल 2010 में उनके भाई बॉबी स्ट्रोक पड़ने के बाद कोमा में आ गए। साल 2014 में 9 मार्च को उनका निधन हो गया। निजी जिंदगी और पेशेवर जिंदगी में इतने उतार-चढ़ावों के बावजूद जूही चेहरे पर मुस्कान लिए आगे बढ़ती रहीं।

5. जूही चावला निर्माता भी है

जूही ने निर्माता बनने की ओर कदम बढ़ाया और शाहरुख खान, अजीज मिर्जा के साथ 'ड्रीम्ज अनलिमिटेड' बैनर के तले 2001 में 'फिर भी दिल है हिंदुस्तानी', 2001 में 'अशोका' बनाई लेकिन इस बैनर तले बनी निर्माता जूही की 'चलते-चलते' जबरदस्त हिट रही।

Img_0415785544

यहां देखिए जूही चावला के फिल्मों के बेस्ट सॉन्ग

 


कमेंट करें