इंटरनेशनल

ISI की मेहरबानी से कराची में छिपा हुआ है अलकायदा सरगना अल-जवाहिरी : अमेरिकी मीडिया

icon कुलदीप सिंह | 0
141
| अप्रैल 23 , 2017 , 12:54 IST | वॉशिंगटन

अमेरिकी मीडिया की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने खूंखार आतंकवादियों में से एक और अल-कायदा के नेता अयमान अल-जवाहिरी को कराची में पनाह दी है।

साप्ताहिक ‘न्यूजवीक’ ने एक बड़ी खोजी रिपोर्ट में दावा किया कि उसकी सूचना कई आधिकारिक सूत्रों पर आधारित है।

इस रिपोर्ट में कहा,

साल 2001 में अमेरिकी सुरक्षा बलों की ओर से अल-कायदा को अफगानिस्तान से खदेड़ने के बाद से पाकिस्तान की आईएसआई अल-जवाहिरी, जो प्रशिक्षित सर्जन हैं, को बचा रही है।

न्यूजवीक के मुताबिक आज के वक्त में उसका संभावित ठिकाना कराची है, जो अरब सागर के किनारे बसा शहर है, जिसकी आबादी 2.6 करोड़ है। पिछले कई सालों में ऐसा पहली बार हुआ है कि अल-कायदा प्रमुख के छुपने के ठिकाने के बारे में कोई खबरिया रिपोर्ट आई है। जवाहिरी ओसामा बिन लादेन का उत्तराधिकारी है।

Zawahiri2384329829

सीआईए के शीर्ष अधिकारियों में से एक रहे ब्रूस राइडेल ने पत्रिका को बताया, हर चीज की तरह उसके ठिकाने के बारे में भी कोई सबूत नहीं है। राइडेल पिछले चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों के साथ दक्षिण एशिया और मध्य पूर्व मामलों के शीर्ष सलाहकार के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

150727105141-osama-bin-laden-file-1998-super-tease

ब्रूस राइडेल ने कहा कि, ऐबटाबाद पाकिस्तान वह जगह है जहां लादेन मारा गय़ा था और यह उसके छिपने के लिए बेहतर जगह है, जहां पर वो काफी सहज महसूस करेगा कि अमेरिकी वहां नहीं आ सकते और उसे पकड़ नहीं सकते। लादेन के मारे जाने वाली जगह से कुछ सामग्री मिली जो अच्छे खासे संकेत बयां करती है। राइडेल ने पत्रिका को बताया कि कराची अमेरिका की ओर से छापेमारी करने के लिए मुश्किल जगह होगी जहां वो 2 मई, 2011 जैसी कार्रवाई कर सके। इसी कार्रवाई में लादेन मारा गया था।

8201515174318882

कौन है अयमान अल-जवाहिरी?

अल-जवाहिरी का जन्म मिस्त्र में हुआ और वो एक ट्रेंड सर्जन है। वह ओसामा बिन लादेन का सलाहकार था और उसका उत्तराधिकारी भी माना जाता रहा। जब लादेन मारा गया तो अल-कायदा की कमान जवाहिरी के हाथों में चली गई थी। मगर कुछ रिपोर्ट में ऐसा दावा भी किया जा चुका है कि संगठन के भीतर अल-जवाहिरी की चमक काफी कम थी और उनका सम्मान भी ज्यादा नहीं होता था। पहली दफा ऐसा हुआ है कि किसी न्यूज रिपोर्ट में अल-काय़दा सरगना के बारे में जानकारी दी गई है। 


author
कुलदीप सिंह

Editorial Head- www.Khabarnwi.com Executive Editor - News World India. Follow me on twitter - @KuldeepSingBais

कमेंट करें