नेशनल

जम्मू-कश्मीर में फैसले लेने के लिए स्वतंत्र है सेना, सरकार की तरफ से कोई रोक नहीं

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
72
| मई 25 , 2017 , 11:43 IST | नई दिल्ली

कश्मीर में पाकिस्तान की तरफ से सीमा पर गोलीबारी जारी है। भारतीय सेना भी इसका माकूल जवाब दे रही है। ऐसे में रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने सेना के समर्थन में बयान देते हुए साफ कर दिया है कि सेना फैसला लेने के लिए स्वतंत्र है।

 

उन्होंने बुधवार को मेजर लीतुल गोगोई का जिक्र किए बिना कहा, सैन्य समाधान सेना के अधिकारियों द्वारा ही मुहैया कराए जाएंगे। जब आप युद्ध जैसे क्षेत्र में हों तो स्थितियों से कैसे निबटेंगे। हमें अपने सैन्य अधिकारियों को निर्णय करने की अनुमति देनी होगी। उन्होंने कहा, उन्हें संसद के सदस्यों से विचार-विमर्श नहीं करना होगा कि इस प्रकार की परिस्थिति में क्या करना चाहिए। रक्षा मंत्री जम्मू कश्मीर की स्थितियों के बारे में सवालों का जवाब दे रहे थे।

 

बता दें कि रक्षा मंत्री के इस बयान से यह संकेत मिल रहे हैं कि सरकार घाटी में हालात सामान्य करने के लिये सेना को कड़े कदम उठाने की मंज़ूरी भी दे सकती है। इस संदर्भ में सूत्रों का कहना है कि केंद्र सरकार और जम्मू-कश्मीर की राज्य सरकार मिलकर अलगाववादियों और पत्थरबाज़ों से सख़्ती से निपटने के लिए एक कार्य योजना बना रही हैं।


कमेंट करें