नेशनल

कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए ISI ने रची नई साजिश, बनाया 'हलाल दस्ता'

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
132
| अक्टूबर 5 , 2017 , 15:44 IST | कश्मीर

जम्मू कश्मीर में पाकिस्तान की नई साजिश का खुलासा हुआ है। सूत्रों के हवाले से खबर मिली है पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने कश्मीर में दहशत फैलाने के अपने नए प्लान के तहत 'हलाल दस्ता' तैयार किया है।

सूत्रों के मुताबिक, घाटी में हमलों को अंजाम देने के लिए आतंकी संगठनों के साथ मिलकर ISI ने एक 'हलाल दस्ता' तैयार किया है। इस दस्ते में लश्कर-ए तैयबा समेत कई आतंकी संगठनों को शामिल किया गया है। ISI ने इसके लिए बाकायदा आतंकियों के साथ मीटिंग की है। जानकारी के मुताबिक, ISI ने पीओके (पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर) के कोटली में आतंकी संगठनों के नुमाइंदों के साथ बैठक की। इस बैठक में आतंकी सैयद सलाउद्दीन ने भी हिस्सा लिया। मीटिंग में आतंकियों को पुंछ और सुरनकोट में मूवमेंट बढ़ाने और हमले करने के फरमान दिए गए हैं।

सूत्रों ने बताया है कि आईएसआई ने एलओसी से सटे सुरनकोट और पूंछ को मुख्य रूप से अपनी गतिविधियों के क्षेत्रों के तौर पर पहचाना है। आईएसआई ने हाल में जैश-ए-मोहम्मद के सैयद सलाहुद्दीन, आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन और एलईटी के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है। आईएसआई अधिकारियों ने कोत्ली (पीओके) में यह बैठक आयोजित की थी, जहां उन्होंने कश्मीरी जेहादी गतिविधि को सुंदरकोट और पुंछ इलाकों के अलावा घाटी से आगे बढ़ाने का फैसला किया। आईएसआई ने रोड ऑपरेशन पार्टी, सेना की अलग-अलग पोस्टों और उसके पुलों पर हमला करने के लिए घाटी में सभी आतंकवादी समूहों को निर्देश दिया है। खुफिया एजंसियों को पाक अधिकृत कश्मीर में बड़ी आतंकी साजिश का भी पता चला है।

हलाल दस्ते का मकसद मुख्य रूप से सीमाई क्षेत्र में BAT टीम के तौर पर हमलों को अंजाम देना है। हालांकि, पहले भी कई बार पाकिस्तान की 'बैट' हमले कर चुकी है।

खुफिया एजेंसियों का कहना है कि पाकिस्तान के इस 'हलाल' दस्ते का उद्देश्य एलओसी से सटे इलाकों में भारतीय सीमा सुरक्षाबलों को ज्यादा से ज्यादा नुकसान पहुंचाकर वहां अपनी जमीन तैयार करना है। सूत्रों का कहना है कि 'हलाल दस्ता' की गतिविधियों को आसानी से इनकार कर दिया जा सकता है, यह पाकिस्तानी सेना में नॉन स्टेट एक्टर के रूप में काम कर रहे है।

खुफिया जानकारी के मुताबिक, पीओके -615 (जुलाई और अगस्त में) में लॉन्चिंग पैड पर आतंकवादियों की गतिविधियों को देखा गया है। पीओके में विभिन्न जगहों पर आतंकवादियों की उपस्थिति के भी प्रमाण मिले है। कश्मीर के गुरेज से सटे पीओके में 52 आतंकियों के होने की सूचना है। वहीं माछिल से सटे पीओके में 89, केरन में 91, तंगधार में 20, नौगाम में 45, उरी में 112, रामपुर में 32, पुंछ में 78, बिंबर गली में 78, कृष्णा घाटी में 57, राजौरी में 5, नौशेरा में 35, सुंदरबनी 15 और केल में 13 आतंकियों के होने की सूचना है।


कमेंट करें

अभी अभी