नेशनल

'रेपिस्तान' ट्वीट पर केंद्र सरकार नाराज, कश्मीर के पहले IAS टॉपर फैसल को भेजा नोटिस

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1346
| जुलाई 11 , 2018 , 17:30 IST

जम्मू-कश्मीर में 2010 बैच के आईएएस शाह फैसल अपने एक ट्वीट के लिए निशाने पर हैं। जम्मू-कश्मीर के पहले यूपीएसएसी टॉपर को उनके तंज भरे ट्वीट के लिए कारण जम्मू-कश्मीर सरकार ने केंद्र सरकार के आदेश पर बताओ नोटिस जारी किया है। फैसल कश्मीर और सामाजिक मुद्दों पर अक्सर ही मुखर रहते हैं। उन्होंने दक्षिण एशिया में बढ़ते रेप पर ट्वीट किया था, जिस पर उन्हें नोटिस जारी किया गया। फैसल ने इस नोटिस को 'लव लेटर' बताया है।

जम्मू-कश्मीर सरकार ने लेटर में कहा है कि कम्युनिकेशन की यह कॉपी डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग, भारत सरकार की तरफ से फॉरवर्ड की गई है। इसमें कहा गया है कि आपके ट्विटर अकाउंट से कई ऐसी बातें कही गई हैं, जो ऑल इंडिया सर्विस (कंडक्ट रूल्स), 1968/ऑल इंडिया सर्विसेज (डिसिप्लिन एंड अपील) रूल्स, 1969 का उल्लंघन करती हैं। नोटिस के साथ शाह फैसल के ट्वीट के स्क्रीनशॉट्स भी भेजे गए हैं।

शाह फैसल ने ये नोटिस शेयर करते हुए ट्वीट किया, 'दक्षिण एशिया में बढ़ते रेप कल्चर के खिलाफ तंज भरे ट्वीट के लिए मुझे अपने बॉस से 'लव लेटर' मिला है। सबसे दुखद बात तो यह है कि भारत में सर्विस के कायदे आज भी औपनिवेशिक तरीके के हैं। औपनिवेशिक मंशा वाले कानूनों का उद्देश्य मुखर आवाजों की स्वतंत्रता पर हमला करना है।'

फैसल ने रेप की बढ़ती घटनाओं पर ट्वीट किया था, पितृसत्ता+ जनसंख्या+ अशिक्षा+ शराब+ पॉर्न+ टेक्नॉलजी+ अराजकता=रेपिस्तान।'

उधर जम्मू कश्मीर के लोग भी सोशल मीडिया पर सरकार के इस फैसले के खिलाफ अब आवाज उठा रहे हैं। कई लोगों ने कहा है कि नौकरशाहों को सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने के चलते दंड दिया जा रहा है। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला फैसल के समर्थन में आगे आए और ट्वीट किया.

उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट करते हुए लिखा, "मैं इस नोटिस को नौकरशाही के अति उत्साह में आकर उठाए गए मामले के रूप में देखता हूं। वे उस समय की भावना को समझ नहीं पा रहे हैं, जिसमें हम रह रहे हैं। 'उमर ने कहा ऐसा लगता है कि डीओपीटी ने प्रशासनिक सेवाओं से शाह फैसल को निकालने का मन बना लिया है। इस पेज की आखिरी पंक्ति चौंकाने वाली और अस्वीकार्य है जहां वे फैसल की 'सत्यनिष्ठा और ईमानदारी' पर सवाल उठाते हैं। एक व्यंग्यात्मक ट्वीट बेईमानी कैसे है? यह उन्हें भ्रष्ट कैसे बनाता है?"

 बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पर्यटन विभाग के अडिशनल सचिव फैसल इस वक्त स्टडी लीव हैं, और फुलब्राइट स्कॉलरशिप लेकर अमेरिका गए हुए हैं।


कमेंट करें