इंटरनेशनल

जापान में बस ड्राइवरों की अनोखी हड़ताल, नहीं वसूल रहे यात्रियों से कोई किराया

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
369
| मई 5 , 2018 , 11:19 IST

अगर किसी भी देश में बस ड्राइवर या ऑटो ड्राइवर हड़ताल पर हों तो सबसे ज्यादा परेशानी आम लोगों को उठानी पड़ती है लेकिन जापान में एक अनोखे तरह से बसों के ड्राइवरों ने हड़ताल का तरीका चुना है। इस हड़ताल में न तो कोई चक्काजाम और नही एक भी बस खड़ी हुई है। बल्कि बसें चल रहीं है लेकिन यात्रियों से कोई किराया नही वसूला जा रहा है।

बस से सफर करने वाले ज्यादातर लोग रोज आने-जाने के लिए इसी पर निर्भर हैं। उनको असुविधा ना हो, इसलिए ये तय हुआ कि किसी भी पैसेंजर से पैसा नहीं लिया जाएगा। इससे भी प्रशासन का ही नुकसान है।

ड्राइवरों का कहना है कि- यह एक अलग तरह की हड़ताल है। अगर हम बसें नहीं चलाने का फैसला लेते तो नुकसान जनता का होता। हम जिनका विरोध कर रहे हैं, उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। इस स्ट्राइक का नाम 'फ्री राइड स्ट्राइक' रखा गया है।

क्यों हो रही है हड़ताल-:

फ्री राइड स्ट्राइक जापान की पब्लिक ट्रांसपोर्ट सेक्टर की बड़ी कंपनी रयोबी बस सर्विस ने की है। एक महीने पहले रयोबी बस सर्विस के ही रूट पर प्रशासन ने दूसरी बस सर्विस मेगुरिन को भी बसें चलाने का लाइसेंस दे दिया था।

रयोबी ने बस मैनेजमेंट एडमिनिस्ट्रेशन से मेगुरिन का रूट बदलने की अपील की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में रयोबी की बसें हड़ताल पर चली गईं। रयोबी का कहना है कि- ‘हमारे ड्राइवर डरे हुए हैं। उन्होंने मैनेजमेंट से उनकी जॉब सिक्योरिटी को लेकर पुख्ता इंतजाम करने को कहा था, लेकिन कोई संतोषजनक प्रतिक्रिया नहीं आई।’

अमेरिका के तर्ज पर हुई "फ्री राइड स्ट्राइक"-:

फ्री राइड स्ट्राइक का ये तरीका 74 साल पुराना है। पहली बार 1944 में अमेरिका में पैसेंजर्स को फ्री-राइड देकर इस तरह की हड़ताल की गई थी। पिछले साल भी सिडनी और ब्रिसबेन में भी बस ड्राइवर इस तरह की हड़ताल पर गए थे। सिडनी में भी बस ड्राइवरों ने मजदूरी के मुद्दों को लेकर 'फेयर फ्री डेज' की शुरुआत की थी।


कमेंट करें