राजनीति

नीतीश पर शरद का निशाना, कहा-11 करोड़ लोगों का विश्वास तोड़ा, हो सकती है बड़ी कार्रवाई

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
238
| अगस्त 10 , 2017 , 14:58 IST | बिहार

बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद नाराज चल रहे पार्टी के पू्र्व अध्यक्ष शरद यादव की जेडीयू से विदाई हो सकती है। बीजेपी-जेडी़यू गठबंधन से खफा शरद यादव के खिलाफ पार्टी अनुशासनात्मक कार्रवाई कर सकती है। शरद यादव इस समय बिहार के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। पटना पहुंचने के बाद शरद यादव का आरजेडी कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। इस यात्रा के दौरान शरद यादव जनता के बीच जाकर महागठबंधन के टूटने और बीजेपी के साथ मिलकर बनाई नई सरकार के बारे में लोगों की राय जानने की कोशिश करेंगे।

शरद यादव ने कहा- हमने गठबंधन 5 साल के लिए किया था, 11 करोड़ लोगों के विश्वास पर आघात हुआ है, लोगों को चोट पहुंची है, हम यहां किसी को कुछ नहीं कहेंगे। जिस जनता ने गठबंधन बनाया था, वह ईमान का गठबंधन था, वह करार टूटा है। हमको तकलीफ है।

उन्होंने कहा- यह लोकतंत्र में विश्वास का संकट है। संकट को जनता के बीच जाकर देखूंगा। मैं गठबंधन के साथ मैं खड़ा हूं। जनता के पास जा रहा हूं, ताकि गठबंधन बना रहे।

आपको बता दें कि, 11 अगस्त को शरद यादव मुजफ्फरपुर, दरभंगा और मधुबनी जाएंगे। 12 अगस्त को वो मधुबनी, सुपौल, सहरसा और मधेपुरा की यात्रा करेंगे।

वहीं, 19 अगस्त को जेडीयू की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक है। लेकिन इससे दो दिन पहले शरद यादव 'सहज विरासत बचाओ सम्मेलन' करने जा रहे हैं। जिसमें विपक्ष के नेता, सामाजिक कार्यकर्ता, दलित और कुछ अल्पसंख्यक नेताओं के भी शामिल होने की संभावना है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, शरद पार्टी बिहार की यात्रा करके नियमों का उल्लंघन कर रहे हैं, उन्होंने अपनी यात्रा की जानकारी पार्टी को नहीं दी है, इस वजह से पार्टी उनपर बड़ी कार्रवाई कर सकती है। जदयू ने एक नोटिस भी जारी किया है जिसमें कहा गया है कि जो भी कार्यकर्ता शरद के कार्यक्रम में जाएगा उसपर पार्टी कड़ी कार्रवाई करेगी।


कमेंट करें