नेशनल

झारखंड सरकार का बड़ा फैसला, सभी मदरसों में अनिवार्य होगा राष्ट्रगान

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
214
| नवंबर 9 , 2017 , 21:05 IST

झारखंड की मानव संसाधन विकास मंत्री नीरा यादव ने कहा है कि उत्तर प्रदेश की तरह झारखंड में भी सभी स्कूलों और मदरसों में राष्ट्रगान को अनिवार्य किया जायेगा। इसके लिए कानून बनाया जायेगा। हालांकि, मंत्री ने इसे लागू करने की कोई तारीख तय करने से इनकार किया, लेकिन, ऐसा माना जा रहा है कि 15 नवंबर (झारखंड राज्य स्थापना दिवस) तक इसकी अधिसूचना जारी कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि अगले सत्र से झारखंड के स्कूल-कॉलेजों में शिक्षण और भी बेहतर होगा। हाई स्कूल के लिए 22 हजार शिक्षकों की बहाली की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

विश्वविद्यालयों में भी शिक्षक नियुक्त किये जा रहे हैं। चाईबासा में परिसंपत्तियों का वितरण करने के बाद लौटते समय जमशेदपुर के सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में शिक्षा मंत्री ने कहा कि शिक्षा में जो सुधार कार्य हुए हैं, स्थापना दिवस पर उस पर एक विस्तृत रिपोर्ट पेश की जायेगी। श्रीमती यादव ने कहा कि सभी विश्वविद्यालयों को अनुबंधित शिक्षकों के भुगतान के लिए राशि भेज दी गयी है।

Neera-yadav_1459763979

नीरा यादव ने कहा कि हर प्रखंड के एक स्कूल को आदर्श बनाया जायेगा। इसके लिए सर्वे का काम चल रहा है। आदर्श स्कूल में किचन सेट, शौचालय, पुस्तकालय, कंप्यूटर, स्मार्ट क्लास समेत सारी सुविधाएं होंगी। आदर्श स्कूल में शिक्षकों की कमी नहीं रहेगी। आधा किमी की दूरी पर दूसरा स्कूल है, तो उसे भी उसी में मर्ज कर दिया जायेगा।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें

hiralal gupta

राष्ट्रगान का सम्मान सभी हिंदुस्तानी नागरिक की जिम्मेदारी सभी शहर और गॉव के हर मोहल्ले में होना चाहिए राष्ट्रगान क्या हम 24 घंटे में से कुछ समय अपने देश के सम्मान के लिए नहीं दे सकते हमारे देश में अगर हर नागरिक अपनी जिम्मेदारी समझकर अगर राष्ट्रगान के सम्मान में हिस्सा लेता है तो किसी भी आतंकवादी संगठन ताकतों को हिंदुस्तान के प्रति 100 बार सोचने पर मजबूर होना पड़ेगा एक साथ 125 करोड़ देशवासियो की आवाज एक साथ एक सुर में होगा तो समझो वह आवाज़ आतंकवादियों के कान को चीरते हुए उनके मंसूबो को नस्ट नाबूत कर देगा हम झारखण्ड sarkaar ke is kadam ki sarahna karte hai aur wah dhnywad ke patr hai jai hind bharat mata ki jai