नेशनल

शहला राशिद ने GST को कहा 'गाय सुरक्षा टैक्स', लोगों ने दिया ऐसे जवाब

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
90
| जून 25 , 2017 , 14:36 IST | नई दिल्ली

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष शहला राशिद एक बार फिर सुर्खियों में हैं। बता दें कि एक जुलाई से लागू हो रहे वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को लेकर उन्होंने एक ट्वीट किया है। जिसके बाद यह खबर वायरल हो गया और शहला राहिद विवादों में फंसती हुई नजर आने लगी।

दरअसल उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा कि, GST का मतलब गो सुरक्षा टैक्स। क्या हम सरकार को इसके लिए टैक्स दे रहे हैं? क्या हम बेकाबू भीड़ द्वारा लोगों की हत्या करने के लिए टैक्स दे रहे हैं? शहला राशिद द्वारा किए गए इस ट्वीट के बाद लोग दो भागों में बंट गए।

वहीं एक ट्विटर यूजर ने शहला राशिद के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा कि, हमारे सारे टैक्स का पैसा आरएसएस और इसके आंतकियों के पास जाएगा। तो वहीं किसी एक यूजर ने लिखा कि, बिल्कुल सही आधी आबादी मे आरएसएस हैं। और शहला ऐसे रो रही है जैसे सारा टैक्स यहीं देती हैं।

ट्विटर यूजर तनवीर खान लिखते है कि, हम गाय गणतंत्र में रहने के लिए सरकार को टैक्स देते हैं। तो एक यूजर लिखता है कि, क्या आप कश्मीर के बारे में बात कर रही हैं जहां उग्र भीड़ ने पुलिसकर्मी की हत्या कर दी। यूजर रवि प्रकाश ने लिखा कि, चिंता मत कीजिए जीएसटी सिर्फ भारतीयों के लिए हैं।

आपको बता दें कि शहला राशिद जेएनयू छात्रसंघ की पूर्व उपाध्यक्ष थी। दरअसल, जब जेएनयू में अफजल गुरू की फांसी का विरोध हुआ और देशविरोधी नारेबाजी की हुई, उसके बाद शहला सुर्खियों में आई। श्रीनगर की शहला कश्मीर में इंटरनेट की आजादी से लेकर महिलाओं पर एसिड अटैक जैसे मुद्दों को उठाती रही है। इतना ही नहीं उन्होंने साल 2015 में संसद तक मार्च से लेकर रोहित बेमिला के लिए न्याय मांगने की लड़ाई लड़ी।  


कमेंट करें