इंटरनेशनल

जगमीत सिंह बने कनाडा में PM कैंडिडेट, प्रधानमंत्री ट्रूडो को टक्कर देगा ये भारतीय 'सरदार'

ललिता सेन, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
162
| अक्टूबर 3 , 2017 , 13:36 IST | टोरॉन्टो

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को एक नया राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी मिल गया है। जगमीत सिंह को कनाडा की न्यू डेमोक्रैटिक पार्टी का नेता चुन लिया गया है। इसी के साथ ही जगमीत सिंह कनाडा के इतिहास में पहली बार देश की किसी बड़ी राजनीतिक पार्टी का नेतृत्व करने वाले पहले अश्वेत नेता बन गए हैं।

बता दें कि, 2019 के चुनाव में पीएम जस्टिन ट्रूडो की लिबरल पार्टी के खिलाफ ओंटारियो प्रांत के सांसद जगमीत सिंह को दल का नेतृत्व करने के लिए प्रथम मतदान के आधार पर पार्टी का नेता चुना गया है।

ट्रूडो को मुदेने वाला यह शख्स 38 साल का सिख और पेशे से क्रिमिनल लॉयर है। जगमीत सिंह को सोमवार को कनाडा की न्यू डेमोक्रैटिक पार्टी का नेता चुन लिया गया है। इसी के साथ जगमीत सिंह कनाडा के इतिहास में पहली बार देश की किसी बड़ी राजनीतिक पार्टी का नेतृत्व करने वाले पहले अश्वेत नेता बन गए हैं।

इस निर्णायक प्रथम मतदान में जगमीत सिंह को 53.6 प्रतिशत वोट मिले हैं। उन्होंने तीन अन्य उम्मीदवारों पर जीत दर्ज की।

जीत के बाद जगमीत सिंह ने ट्वीट किया, धन्यवाद न्यू डेमोक्रेट्स. प्रधानमंत्री की दौड़ अब शुरू हो गई है। इसलिए मैंने कनाडा का अगला प्रधानमंत्री बनने के लिए अपना अभियान आधिकारिक तौर पर सोमवार से शुरू कर दिया है।

JAGMEET-SINGH

वहीं जगमीत सिंह को नेता चुने जाने पर पीएम जस्टिन ट्रूडो ने भी उन्हें मुबारकबाद दी और कहा कि वह उनके साथ बातचीत करने साथ मिलकर कनाडाई लोगों के लिए काम करना चाहते हैं।

राजनीतिक दल का नेतृत्व करने वाले अल्पसंख्यक समुदाय के पहले सदस्य हैं। फिलहाल उनके सामने उस न्यू डेमोक्रैटिक पार्टी को फिर से खड़ा करने की गंभीर चुनौती है, जो वर्ष 2015 के चुनाव में 59 सीटों पर हार गई थी। यह पार्टी कनाडा की संसद में तीसरे स्थान पर है।

रंगीन पगड़ियों के शौकिन ओर पेशे से वकील जगमीत सिंह (38) न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से 2013 में सांसद बने थे। सांसद रहते हुए उन्होंने 1984 में हुए सिख विरोधी दंगों के खिलाफ कैनेडा में आवाज उठाई थी। साल 2015 में कनाडा के चुनावों में रेकॉर्ड 20 भारतीय मूल के लोग सांसद बने थे। इनमें से 18 पंजाबी मूल के थे।


कमेंट करें