अभी-अभी

पुलिस का ख़ुलासा: लश्कर ने किया था अमरनाथ यात्रियों पर हमला, 3 आतंकी गिरफ्तार

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
247
| अगस्त 6 , 2017 , 16:58 IST | श्रीनगर

जम्मू कश्मीर पुलिस ने अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले मामले सुलझाने में बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। जम्मू कश्मीर पुलिस के आइजी मुनीर खान ने प्रेस कांफ्रेस कर बताया कि हमले में लश्कर का हाथ है। पुलिस ने इस मामले में 3 आतंकियों को भी गिरफ्तार किया है, लेकिन मास्टर माइंड अबू इस्माइल और उसके दो साथियों की तलाश अभी भी जारी है। गिरफ्तार आतंकियों में 2 पाकिस्तानी और और 1 कश्मीरी है। 3 आतंकी अभी भी गिरफ्त से बाहर हैं। पुलिस का दावा है कि उन्हें भी जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।

पहले 9 जुलाई को थी हमले की प्लानिंग

आईजी मुनीर खान ने जानकारी दी कि आतंकियों का प्लान पहले 9 जुलाई को इस हमले को अंजाम देने का था, लेकिन सीआरपीएफ या यात्रियों का कोई वाहन नहीं मिलने पर उन्हें अपने प्लान में फेरबदल करना पड़ा और बाद में उन्होंने अगले दिन 10 जुलाई को इस हमले को अंजाम दिया।

गाड़ियों पर हमले के लिए था कोडवर्ड

आईजी मुनीर खान ने कहा कि सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश किया जाएगा। तीनों आरोपियों ने सभी बातों का खुलासा कर दिया है। आतंकियों ने यात्री वाहन के लिए 'शौकत', CRPF वाहन के लिए 'बिलाल' कोड वर्ड दिया। ये पूरी तरह से आतंकी हमला था।

सूत्रों ने बताया कि इन आतंकियों ने ही अमरनाथ यात्रियों पर हमले के लिए फंड की व्यवस्था की थी। उन्होंने बताया कि कॉल डीटेल्स की छानबीन से ये ओवर ग्राउंड वर्कस पुलिस के हत्थे चढ़े। ये आपसी बातचीत में कोर्ड वर्ड्स का इस्तेमाल करते थे, जिससे पुलिस का ध्यान इस ओर गया। वहीं पुलिस से बचने के लिए ये आतंकी आसपास के घरों या फिर नालियों में छुप जाया करते थे।

हमले में सात श्रद्धालुओं की हुई थी मौत

बता दें कि आतंकियों ने 10 जुलाई की रात 8.20 बजे अमरनाथ यात्रियों पर हमला किया था, जिसमें सात लोगों की मौत हो गई, जबकि 19 यात्री जख्मी हो गए थे। ये आतंकी मोटरसाइकिल पर सवार थे और यात्रियों की बस पर अंधाधुध फायरिंग करने के बाद मौके से फरार हो गए थे। इस गोलीबारी में दो यात्रियों की मौके पर ही मौत हो गई थी, जबकि 5 लोगों की अस्पताल ले जाते वक्त मौत हो गई।

पुलिस पार्टी पर भी किया था हमला

आतंकियों ने अनंतनाग के बंटिगू एरिया में पहले पुलिस पार्टी पर हमला किया। फिर वहां अमरनाथ यात्रियों से भरी एक बस पर फायरिंग की। बस बालटाल से मीर बाजार जा रही थी। उसका अमरनाथ श्राइन बोर्ड में रजिस्ट्रेशन नहीं था। बस में सवार योगेश ने बताया, "हमला रात 8:20 बजे हमला हो गया। फायरिंग के बीच ड्राइवर ने बस को तेजी से निकाली। इससे कई लोगों की जान बच गई। बस में 60 श्रद्धालु थे।

सुनिए आईजी मुनीर खान का प्रेस कांफ्रेस


कमेंट करें