मनोरंजन

Review: महिला आजादी पर बनी जबरदस्त फिल्म है लिपस्टिक अंडर माय बुर्का

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
190
| जुलाई 21 , 2017 , 17:33 IST | मुंबई

तमाम विवादों के बाद आखिरकार फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' को सिनेमाघरों में शुक्रवार को रिलीज कर दिया गया है। दरअसल सेंसर बोर्ड ने फिल्म में आपत्तिजनक सीन्स की वज़ह से फिल्म को असंस्कारी कह दिया था। जिसके बाद फिल्म के रिलीज पर सवाल उठ गया था। लेकिन अब फिल्म को "A" सर्टिफिकेट के साथ रिलीज कर दिया गया है।

20-1500528907-8

डायरेक्टर अलंकृता श्रीवास्तव ने फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्क़ा' में दिखाया है कि हमारे समाज में औरतों के दुखों की कहानी एक जैसी ही है, फिर चाहे वह किसी भी धर्म को मानने वाली हो, चाहे कुवांरी हो, शादीशुदा हो या फिर उम्रदराज हो।

फिल्म की कहानी

4 महिलाओं पर बनी ये फिल्म की कहानी, जो उम्र के अलग-अलग पड़ाव पर हैं। यह फिल्म महिलाओं की है लेकिन इस फिल्म में महिलाओं को महानता की देवी बनाकर पेश नहीं किया गया है। इस फिल्म में ये दिखाया गया है कि कैसे तमाम बंदिशें के बाद भी महिलाओं की ख्वाहिशों को कोई नहीं रोक पाता।

20-1500528886-4

ये कहना गलत नहीं होगा कि, ये एकलौती ऐसी फिल्म है जिसमें इतनी खूबसूरती से और इतने करीब से महिलाओं की जिंदगी को दिखाया गया है। फिल्म की पटकथा लिखने और निर्देशन का जिम्मा अलंकृता श्रीवास्तव ने संभाला था और इसमें वो पूरी तरह से कामयाब भी हुए हैं। फिल्म बहुत धीमी रफ्तार से आगे बढ़ती है लेकिन कहीं भी बोर नहीं करती है। फिल्म की कहानी भोपाल की है, जहां फिल्म की चारों लीड कैरेक्टर रहती हैं।

अभिनय

कलाकारों के अभिनय की बात करें तो हर किसी ने कमाल का अभिनय किया है, चाहे वो रत्ना पाठक हों, कोंकणा सेन हों, प्लाबिता ठाकुर हों या फिर अहाना। हर किसी ने अपने कैरेक्टर को पर्दे पर जीवंत कर दिया है। सुशांत सिंह और विक्रांत मेस्सी को देखकर आप हैरान रह जाएंगे। सुशांत को देखकर उनसे नफरत होने लगती है और यही उनकी जीत है। डायरेक्शन, लोकेशंस और सिनेमेटोग्राफी कमाल की है।

20-1500528900-6

फिल्म में कई सेक्स सीन होने के बावजूद इस बात का ख्याल रखा गया है कि कहीं से भी ये अश्लील ना लगे। फिल्म देखकर ही समझ में आ जाता है कि इस फिल्म पर इतने लंबे वक्त से बैन क्यों लगा था?

देखें या नहीं

आप महिला हों या पुरुष, ये फिल्म आपको एक बार जरूर देखनी चाहिए। बॉलीवुड में ऐसी फिल्में बहुत कम बनती हैं।

कलाकार: कोंकणा सेन, रत्ना पाठक, अहाना कुमार, प्लाबिता
निर्देशक: अलंकृता श्रीवास्तव
मूवी टाइप: ड्रामा
अवधि: 1 घंटा 58 मिनट


यहां देखें फिल्म का ट्रेलर


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं

कमेंट करें