लाइफस्टाइल

शराब पीने वालों को डायबिटीज़ से होता है बेहद कम ख़तरा: रिसर्च

पीटीआई भाषा | 0
190
| जुलाई 28 , 2017 , 14:49 IST | डेनमार्क

सप्ताह में तीन से चार दिन सीमित मात्रा में मद्य सेवन करने से मधुमेह होने का खतरा कुछ हद तक कम हो जाता है। एक अध्ययन में यह दावा किया गया है।

इससे पहले कुछ अध्ययनों में लगातार यह सुझाव दिया गया था कि थोड़ा-बहुत मद्य सेवन करने वाले पुरुषों एवं महिलाओं को मदिरा न पीने वालों की तुलना में मधुमेह का खतरा कम होता है। जबकि इसके अधिक सेवन से मधुमेह का खतरा उतना ही या उससे अधिक हो जाता है जितना कि मदिरा सेवन न करने वालों को होता है।

दक्षिणी डेनमार्क की एक यूनिवर्सिटी के अनुसंधानकर्ताओं ने मद्य सेवन के मधुमेह पर होने वाले प्रभावों की जांच की और इसकी तुलना अन्य विशिष्ट पेय पदार्थों से भी की।

Diabetes

यह डेटा 18 या उससे अधिक आयु के करीब 70,551 डेनिश नागरिकों की एक आत्म-प्रतिवेदन प्रश्नावली सहित उनकी जीवन शैली एवं स्वास्थ्य संबंधी पदार्थों पर आधारित है।

इसमें वैज्ञानिकों ने पाया कि थोड़ा बहुत मद्य सेवन करने वाले लोगों को मधुमेह का खतरा कम होता है। मद्य सेवन न करने वालों की तुलना में हर सप्ताह 14 पेग पीने वालों में मधुमेह का खतरा 43 प्रतिशत कम हो जाता है। वहीं महिलाओं में यह खतरा 58 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

डेटा में पाया गया कि सप्ताह में तीन-चार दिन मद्य सेवन करने से मधुमेह का खतरा पुरुषों में 27 प्रतिशत और महिलाओं में 32 प्रतिशत तक कम हो जाता है। हर सप्ताह वाइन के सात या उससे अधिक पेग पीने वाले पुरुष एवं महिलाओं को, हर सप्ताह वाइन का एक पेग पीने वालों की तुलना में, मधुमेह होने का खतरा 25-30 प्रतिशत तक कम होता है। हर सप्ताह एक से छह बीयर पीने से मधुमेह का खतरा पुरुषों में 21 प्रतिशत तक कम हो जाता है, वहीं इसका महिलाओं पर कोई असर नहीं पड़ता।


कमेंट करें