नेशनल

संसद में खड़गे का पीएम मोदी पर बड़ा प्रहार, कहा- गौरक्षकों को उकसाती है सरकार

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
154
| जुलाई 31 , 2017 , 17:36 IST | नई दिल्ली

हाल ही में कथित गौरक्षकों की भीड़ द्वारा किए गए हमलों को लेकर लोकसभा में बहस हुई। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने भीड़ की हिंसा पर कहा कि मैं और पूरा सदन इस तरह की घटनाओं खंडन करते हैं। पूरे देश में भय और आतंक का माहौल है। पूरी दुनिया में हिन्दुस्तान की छवि खराब हो रही है। कई शहरों में भीड़ द्वारा हिंसा और अव्यवस्था का सिलसिला नहीं थम रहा। जो भी कोई मारा जा रहा है, चाहे वह धर्म के नाम पर हो या गो हत्या के नाम पर, इसे लेकर रोष का माहौल है।

निर्दोष लोगों को मौत के घाट उतारा जा रहा है। इस देश के हर नागरिक को जीने का अधिकार है। देश में एनडीए सरकार के कदम पड़े हैं तब से इस तरह की घटनाएं हो रही हैं। ऐसा प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर सरकार की तरफ से भी हो रहा है। ऐसी घटनाओं पर प्रधानमंत्री कुछ नहीं कहते हैं। खड़गे बोले कि प्रधानमंत्री जब अपने मन की बात करते हैं प्रधानमंत्री को सदन में ज्यादा आना चाहिए। पीएम मोदी तो अमावस को एक बार शक्ल दिखाकर चले जाते हैं। धर्म के नाम पर, गाय के नाम पर, गौरक्षा के नाम पर ऐसी घटना किसी देश में नहीं हुई हैं जो इस देश में हो रही हैं। उन्होंने कहा कि पीएम कहते हैं कि गोरक्षा के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं होगी। ऐसे लोगों पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है। कितने लोगों पर केस दर्ज किया गया है।

खड़गे बोले कि पीएम सिर्फ मन की बात करते हैं

खड़गे ने अपने भाषण में सहारनपुर और जुनैद की घटनाओं का भी जिक्र किया। खड़गे ने कहा झारखंड और मध्य प्रदेश मॉब लिंचिंग सेंटर बन गया है, गुजरात में 12 जुलाई कई एक घटना वायरल हुई। जिसमें कुछ दलित लड़कों की पिटाई हुई, ये गुजरात में हो रहा है। खड़गे ने कहा कि आजादी के 70 सालों में ऐसी घटनाएं कभी नहीं हुईं। गाय के नाम पर, धर्म के नाम पर इस देश में हत्याएं पिछले 70 सालों में नहीं हुई हैं।

उन्होंने आगे कहा कि, 'सरकार अप्रत्यक्ष तरीके से वीएचपी, बजरंग दल और गो-रक्षकों को बढ़ावा दे रही है।

मल्लिकार्जुन खड़गे ने लोकसभा में कहा, 'झारखंड और मध्यप्रदेश मॉब लिंचिंग सेंटर राज्य बन चुके हैं।'

मल्लिकार्जुन खड़गे के बयान पर बीजेपी नेता निशिकांत दुबे ने कहा कि जिस मुद्दे को खड़गे ने उठाया है वो कोर्ट में है, तो इस मामले पर बात क्यों की जा रही है।


कमेंट करें