नेशनल

योगी के प्रमुख सचिव पर लगा घूसखोरी का आरोप, शिकायतकर्ता को पुलिस ने किया अरेस्ट

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
345
| जून 8 , 2018 , 14:16 IST

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रमुख सचिव शशि प्रकाश गोयल पर 25 लाख रुपये की घूस मांगने का आरोप लगा है। इसके बाद राज्यपाल राम नाईक ने अपनी प्रतिक्रिया दिखाते हुए मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। इसके बाद पुलिस ने प्रमुख सचिव शशि प्रकाश गोयल पर रिश्वत का आरोप लगाने वाले अभिषेक गुप्ता को ही गिरफ्तार कर लिया है। खबरों के मुताबिक योगी सरकार को अभिषेक के आरोप सही नहीं लग रहे हैं।

यूपी के वरिष्ठ मंत्री और सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव पर शिकायतकर्ता ने जो आरोप लगाए हैं, प्रथम दृष्ट्या सही प्रतीत नहीं हो रहे हैं। क्योंकि शिकायतकर्ता के अपने क्रियाकलाप पर संदेह है। बावजूद इसके शिकायत और शिकायतकर्ता के क्रियाकलाप दोनों की सरकार जांच कराएगी।

Whatsapp-image-2018-06-07-at-3_060818121506

आपको बता दें कि लखनऊ के रहने वाले अभिषेक गुप्ता ने यूपी सीएम के मुख्य सचिव एसपी गोयल पर 25 लाख की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था। जिसके बाद गुरुवार की रात को हजरतगंज थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया गया था।

गौरतलब है कि राज्यपाल राम नाईक ने सीएम योगी को 30 अप्रैल को ये पत्र भेजा था। इसमें राज्यपाल की तरफ से कहा गया है कि लखनऊ के इंदिरानगर में रहने वाले अभिषेक गुप्ता ने 18 अप्रैल को ईमेल भेजकर बताया कि उनके द्वारा हरदोई के संडीला में रैसो गांव में एस्सार ऑयल लिमिटेड द्वारा स्वीकृत पेट्रोल पंप लगाया जाना है।

उन्होंने बताया कि पेट्रोल पंप के मुख्य मार्ग की चौड़ाई कम होने के कारण आवश्यक जमीन उपलब्ध कराने के लिए उन्होंने प्रत्यावेदन दिया है, जो मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव एसपी गोयल के स्तर पर लंबित है।

इस मामले में सीएम योगी ने मुख्य सचिव राजीव कुमार को अभिषेक गुप्ता के हरदोई स्थित पेट्रोल पंप की स्थापना संबंधी मामले की तथ्यात्मक जांच कर रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए हैं।

इसे भी पढ़ें-: फेसबुक ने मानी सॉफ्टवेयर में खराबी की बात, पब्लिक हुआ 14 मिलियन यूजर्स का डाटा

अभिषेक गुप्ता का आरोप है कि पेट्रोल पंप के मुख्य मार्ग की चौड़ाई बढ़ाए को भूमि उपलब्ध करवाए जाने के लिए प्रधान सचिव एसपी गोयल की तरफ से 25 लाख रुपये की मांग की जा रही है। साथ ही कहा है कि ये रिश्वत नहीं दिए जाने के कारण प्रधान सचिव उनके प्रत्यावेदन पर निर्णय नहीं ले रहे हैं। इस कारण पेट्रोल पंप की स्थापना नहीं हो पा रही है।


कमेंट करें