मनोरंजन

इंदु सरकार पर विवाद को बढ़ता देख मधुर भंडारकर को मिली पुलिस सुरक्षा

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
168
| जुलाई 17 , 2017 , 18:48 IST | मुंबई

मधुर भंडारकर की अन्य फिल्मों की तरह उनकी आगामी फिल्म इंदु सरकार भी विवादों में फंसी हुई है। दरअसल मधुर भंडारकर की फिल्म इंदु सरकार को लेकर कहा जा रहा है कि यह गांधी परिवार और आपातकाल को लेकर बनायी गई है। आरोप है कि इस फिल्म में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और उनके बेटे संजय गांधी की छवि गलत तरीके से दिखाई गई है। इसी बात को लेकर कांग्रेस कार्यकर्ता इस फिल्म के विरोध में आ गए हैं।

अलग-अलग शहरों में फिल्म के खिलाफ होते प्रदर्शन को देखते हुए मधुर भंडारकर को अब सुरक्षा प्रदान की गई है। फिल्म के प्रदर्शन से पहले प्रमोशन के लिए भंडारकर की प्रेस कांफ्रेंस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन को देखते हुए मुंबई पुलिस ने उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई है।

फिल्म प्रमोशन के लिए बुलाई गई प्रेस कांफ्रेंस के विरोध में जिस तरह से तमाम कांग्रेस कार्यकर्ता आए और इसकी वजह से प्रेस कांफ्रेंस को रद्द करना पड़ा उसके बाद मधुर भंडारकर ने सोशल मीडिया पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से सवाल पूछा है कि क्या मुझे मेरी अभियव्यक्ति की आजादी का अधिकार मिलेगा। भंडारकर ने लिखा कि पुणे के बाद मुजे आज अपनी दो प्रेस कांफ्रेंस को रद्द करना पड़ा है, क्या आप इस गुंडागर्दी को सही मानते हं, क्या मुझे मेरी अभियव्यक्ति की आजादी मिलेगी।

वहीं कुछ कांग्रेस कार्यकर्ता इस फिल्म के विरोध में मुंबई स्थित सेंसर बोर्ड के ऑफिस पहुंच गए। इस दौरान कार्यकर्ता बोर्ड से फिल्म दिखाने की मांग पर अड़ गए। जिसके बाद 14 कार्यकर्ताओं को सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी से मुलाकात की इजाजत दी गई।

मधुर ने कहा, मेरी बेटी और मेरा पूरा परिवार इस सबसे काफी डर गए हैं। मुझे उम्मीद नहीं थी कि ऐसा होगा। लेकिन पुणे और नागपुर के बाहर मेरे होटेल के सामने डरावना माहौल बन गया है।

उन्होंने कहा, समझ नहीं आ रहा कि इतनी पुरानी पार्टी कांग्रेस आखिर मेरी एक छोटी सी फिल्म से डर गयी।

उन्होंने बताया, मुझे सेंसर बोर्ड का भी समझ नही आया उन्होंने कुल 16 सीन काटने के लिए बोला है। अब जो डायलॉग ट्रेलर और प्रोमो में सही लगे उन सीन्स के फिल्म में होने पर सेंसर बोर्ड को परेशानी है। लेकिन मैं वो सब डिलीट नहीं करूंगा।

मधुर भंडारकर ने बताया कि सेंसर बोर्ड को आरएसएस और गांधी जैसे शब्दों से दिक्कत है। उन्होंने कहा, नितेश राणे बोलें अपने लोगों से कि मेरे साथ सभ्यता से पेश आएं। मुझे सपोर्ट करें फिल्म रिलीज होने दें। पुणे और नागपुर के हालात देखते हुए हालात देखते हुए मुझे सिक्योरिटी दे दी गई है।

'इंदु सरकार' को रिलीज होने में केवल 2 हफ्ते बाकी हैं लेकिन विवाद है कि खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा है। इंदौर शहर में कांग्रेस पार्टी ने सिने सर्किट एसोसिएशन और सिने गृह संचलन को एक पत्र लिख फिल्म की रिलीज को लेकर चेतावनी दी है। पत्र में साफ कहा गया है कि पार्टी फिल्म को सिनेमाघरों में रिलीज होने नहीं देगी और अगर ऐसा होता है तो जो उग्र आंदोलन किया जाएगा उसका जिम्मेदार थियेटर मालिक और प्रशासन होगा। कांग्रेस की तरफ से पत्र में ये भी कहा गया है कि इस फिल्म अनुपम खेर ने भाजपा सरकार के कहने पर बनवाया है। फिल्म रिलीज हुई तो वो अनुपम खेर और मधुर भंडारकर दोनों के पुतले जला फिल्म का विरोध किया जाएगा।


कमेंट करें