ऑटोमोबाइल

आ रही है महिन्द्रा की नई इलेक्ट्रिक कार, 1 घंटा करें चार्ज...400 किलोमीटर दौड़ेगी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
242
| मई 25 , 2017 , 16:08 IST | नई दिल्ली

घरेलू कार निर्माता कंपनी महिंद्रा इलेक्ट्रिक ने अपनी अगली पीढ़ी की इलेक्ट्रिक कार के बारे घोषणा की है। इस घोषणा में कंपनी ने बताया है कि महिंद्रा इलेक्ट्रिक जल्द ही एक नई तकनीक से बनी बैटरी को पेश करेगी जिसे ईवी 2.0 का नाम दिया जाएगा। इस बैटरी की मदद से इलेक्ट्रिक कार 150 से 200 किमी प्रति घंटा की स्पीड देगी।

महिंद्रा इलेक्ट्रिक 17.8 अरब डॉलर की कंपनी महिन्द्रा ग्रुप का ही हिस्सा है। महिन्द्रा इलेक्ट्रिक भारत में पिछले 10 सालों से इलेक्ट्रिक वाहन का निर्माण कर रही है। कंपनी द्वारा अब ईवी की एक नई रेंज पेश की जा रही है। कंपनी ने घोषणा की है कि वह पुणे में अपने चाकन प्लांट के पास एक बैट्री असेंबली यूनिट लगाने जा रही है।

Mahindra-ev-2_827x510_81495636200

महिन्द्रा इलेक्ट्रिक के सीईओ महेश बाबू ने कहा,

महिन्द्रा इलेक्ट्रिक में हमारा फोकस सिर्फ इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण पर ही नहीं है, बल्कि इलेक्ट्रिक वाहनों को तेजी से विकसित करने पर भी होगा। महिंद्रा इलेक्टॉनिक्स ने 2.0 के साथ भारत में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के लिये एक रोडमैप भी तैयार किया है।

इस बारे में जानकारी देते हुए महिंद्रा एंड महिंद्रा के एमडी व महिंद्रा इलेक्ट्रिक के चेयरमैन पवन गोयंका ने बताया कि,

अब समय आ गया है कि इलेक्ट्रिक वाहनों को मेन स्ट्रीम में जगह दी जाए और महिंद्रा के पास इस तकनीक के लिए सही प्रोडक्ट व तकनीक है। हम केंद्र व राज्य सरकारों के साथ मिलकर इस दिशा में जरूरी काम कर रहे हैं। इसमें सही इंफ्रास्‍ट्रक्चर बनाने के साथ सभी बेसिक चीजें शामिल हैं जो देश को इलेक्ट्रिक वाहनों के अनुकूल बनाएगा। 

Reva-e2o

पवन गोयंका की मानें तो कंपनी के पास ऐसी बैटरी बनाने की योग्यता है जो एक बार फुल चार्ज पर 400 किलोमीटर तक की दूरी तय कर सकती है और इन्हें चार्ज करने में एक घंटे से कम का वक्त लगता है।

जिस तकनीक पर महिंद्रा काम कर रही है उसके अनुसार ये बैट्रियां 150 से 200 किमी प्रति घंटा की स्पीड देगी। महिंद्रा एंड महिंद्रा एक ई रिक्‍शा भी लॉन्च करने जा रही है जिसकी उच्‍च गति 23 किमी की स्पीड होगी तथा इसका रेंज 80 किलोमीटर का होगा। इसके साथ ही महिंद्रा ये भी कोशिश कर रही है कि इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण में 20 फीसदी तक का कम खर्च आए।

 


कमेंट करें