राजनीति

मालेगांव में नहीं चला BJP का मुस्लिम कार्ड, कांग्रेस को मिली सबसे ज्यादा 28 सीट

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
85
| मई 27 , 2017 , 10:37 IST | मालेगांव

मालेगांव के महानगरपालिका चुनाव में बीजेपी का 'मुस्लिम कार्ड' इस बार काम नहीं आया। मुस्लिम बहुल मालेगांव में बीजेपी ने इस बार 28 मुस्लिम उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था। इसका फायदा मिलने की जगह पार्टी को नुकसान उठाना पड़ा है। पूरी महानगरपालिका में बीजेपी के कुल 3 उम्मीदवार ही विजयी हुए हैं।

Congress

कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरी

वहीं, 28 सीटें जीतकर कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है। उससे अलग लड़ रही एनसीपी को भी 26 सीटों पर सफलता मिली है। दोनों में चुनाव-बाद समझौता न हुआ, तो 13 सीटें जीतने वाली शिवसेना का समर्थन सत्ता के लिहाज से महत्वपूर्ण हो सकता है। एनसीपी मालेगांव में अब तक सत्ता में थी।

Mal 1

ओवैसी की एमआईएम ने भी जीती 7 सीटें

कभी इस क्षेत्र पर वर्चस्व रखने वाली जनता दल (सेक्यूलर) को केवल 6 सीटों पर संतोष करना पड़ा है। उसकी तुलना में यहां पहली बार चुनाव लड़ रही एमआईएम की शुरुआत अच्छी कही जा सकती है। एआईएमआईएम के उम्मीदवार 7 सीटों पर सफल रहे हैं। देश भर में गूंज रहे गोहत्या और तीन तलाक जैसे मुद्दों को मुस्लिम बहुल मालेगांव पर कोई विशेष असर होता नजर नहीं आया।

शिवसेना को मिली है बढ़त

बीजेपी की तुलना में हिंदू बहुल वॉर्डों में शिवसेना को बढ़त मिली है। पश्चिम मालेगांव में शिवसेना को अच्छी सफलता हासिल हुई है। गैस सब्सिडी, प्रधानमंत्री आवास योजना, नौकरियों की गारंटी जैसे विकास मुद्दों को बीजेपी ने चुनावी प्रचार में तरजीह दी। मगर इसका असर होता दिखाई नहीं दिया।

एक फर्क यह जरूर दिखा कि मालेगांव की राजनीति से नदारद रही बीजेपी के उम्मीदवार गली-मुहल्लों में प्रचार में जूझते नजर आए। स्थानीय नेताओं को यह विश्वास है कि जो आधार इस चुनाव में खड़ा हुआ है, वह आगे जाकर और अच्छे नतीजे देगा।

Mal 4