नेशनल

उलटा पड़ा दांव: पुणे में गाय को बचाने पहुंचे गौरक्षकों की हो गई धुनाई

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
169
| अगस्त 6 , 2017 , 14:25 IST | पुणे

इस बार मामला उलटा ही पड़ गया। अभी तक गौ रक्षकों द्वारा लोगों को पीटने-मारने की खबर आ रही थी। लेकिन इस बार गौ रक्षक ही पिट गए। गौरक्षा के नाम पर लोगों की पिटाई करने वाले गौरक्षक पुणे में खुद भीड़ का शिकार बन गए। मामला पुणे के अहम्मदनगर का है, जहां श्रीगोंडा पुलिस स्टेशन के पास लगभग 50 लोगों ने गौरक्षों के एक समूह की जमकर पिटाई कर दी।

Cow

टेम्पो में गाय लाद कर ले जा रहे थे बूचड़खाना

शनिवार शाम गौरक्षों के एक समूह ने अवैध तरीके से बूचड़खाने ले जा रहे गायों से भरे एक टेम्पो को रोका। जिसके बाद वहां मौजूद 50 लोगों ने उनकी पिटाई कर दी। इन लोगों के खिलाफ पुलिस ने हत्या की कोशिश करने का मामल दर्ज कर लिया है। मामले में कार्रवाई करते हुए महाराष्ट्र पुलिस ने टेमपो मालिक और ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है।

गाय बेचे जाने की सूचना पर हुई मारपीट

दरअसल, हर शनिवार कश्ती गांव में जानवरों की मंडी लगती है। गौरक्षकों ने बताया कि शनिवार को उनकी टीम के 11 सदस्य इलाके में यह देखने पहुंचे थे कि क्या यहां अवैध रूप से गाय बेची जा रही है। शिवशंकर राजेंद्र स्वामी ने बताया कि इस इलाके से गौकशी के लिए गायों के बेचे जाने की सूचना मिली थी।

Cow 3

महाराष्ट्र में धड़ल्ले से होती है गायों की तस्करी

स्वामी ने बताया कि इलाके से 300 से ज्यादा मामले सामने आए है। यहां से पुणे और महाराष्ट्र के कई जिलों में अवैध तरीके से गायों की तस्करी की जाती है। स्वामी ने बताया कि हमें खबर मिली थी कि टेम्पों में गायों की तस्करी की जा रही है। हमने पुलिस को भी इस बात की जानकारी दी थी। पुलिस की मदद से हमने टेम्पों की जांच की। जिसमें 10 बैल और दो गायों को बचाया गया।

टेम्पो मालिक और ड्राइवर पर एफआईआऱ दर्ज

स्वामी ने आगे बताया कि इसके बाद हम शिकायत दर्ज कराने के लिए पुलिस स्टेशन पहुंचे। हमें बहुत भूख लगी थी इसलिए हम खाना खाने के लिए पास की ही एक होटल में चले गए। लेकिन हमने देखा कि आस पास हथियारबंद भीड़ इकट्ठा होने लगी। जिसके बाद हमने टेम्पो मालिक और ड्राइवर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करते हैं।

उन्होंने बताया कि जब हम पुलिस स्टेशन से निकले तो वहां पर कुछ मीडियाकर्मी मौजूद थे। उसी वक्त 50 लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। जिन्होंने हमारे ऊपर हमला कर दिया। इस हमले में हमारे कुछ कार्यकर्ता घायल हो गई। वहीं इस हमले में भीड़ ने हमारे कुछ कार्यकर्ताओं की सोनी की चेन भी छीन ली। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों को वहां से खदेड़ा।

 

 


कमेंट करें