नेशनल

माल्या के प्रत्यपर्ण के लिए मोदी ने ब्रिटिश पीएम से मांगी मदद, CBI और ED दोनों को है तलाश

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
100
| जुलाई 8 , 2017 , 21:15 IST | हैम्बर्ग

भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के प्रत्यर्पण के लिए भारत ने ब्रिटिश सरकार से मदद मांगी है। शनिवार को जर्मनी के हैम्बर्ग में नरेंद्र मोदी की मुलाकात ब्रिटेन की पीएम थेरेसा मे से हुई। इसी दौरान इस मसले पर बातचीत हुई और मोदी ने माल्या को भारत वापस भेजने में मदद के लिए कहा। मोदी G-20 समिट के लिए शुक्रवार को हैम्बर्ग पहुंचे थे।

बता दें कि माल्या पिछले साल मार्च से ही लंदन में हैं और उन पर 17 भारतीय बैंकों के 9,432 करोड़ रुपए बकाया हैं। कोर्ट उन्हें भगोड़ा करार दे चुकी है। मोदी और थेरेसा मे के बीच G-20 समिट से इतर द्विपक्षीय वार्ता भी हुई। इसी दौरान माल्या के मसले पर बात हुई। बाद में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने ट्वीट कर बताया कि पीएम ने माल्या की वापसी के मसले पर ब्रिटेन से मदद करने को कहा है।

18 अप्रैल को स्कॉटलैंड यार्ड ने माल्या को किया था गिरफ्तार, फिर मिली जमानत

माल्या को रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर स्कॉटलैंड यार्ड ने इसी साल 18 अप्रैल को अरेस्ट किया था, हालांकि उन्हें 4.5 करोड़ रुपए के बॉन्ड और पासपोर्ट जमा करने की शर्त पर 3 घंटे में ही जमानत मिल गई थी। 6 जुलाई को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में माल्या के एक्स्ट्राडीशन केस की सुनवाई हुई थी। इस दौरान माल्या भी कोर्ट में मौजूद थे। उन्होंने सभी जरूरी डॉक्युमेंट्स कोर्ट को सौंपे। इससे पहले 13 जून को भी माल्या के मामले की सुनवाई हुई थी। वे 4 दिसंबर तक जमानत पर हैं।

कब से देश से फरार हैं माल्या

2 मार्च 2016 से ही माल्या लंदन में रह रहे हैं। इन्फोर्समेंट डायरेक्ट्रेट (ईडी) और सीबीआई को माल्या की तलाश है। प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) से जुड़े एक मामले में मुंबई की स्पेशल कोर्ट माल्या को भगोड़ा घोषित कर चुकी है। माल्या का पासपोर्ट भी रद्द किया जा चुका है।

Malya 3

माल्या पर कितना कर्ज

31 जनवरी 2014 तक किंगफिशर एयरलाइंस पर बैंकों का 6,963 करोड़ रुपए बकाया था। इस कर्ज पर इंटरेस्ट के बाद माल्या की टोटल लायबिलिटी 9,000 करोड़ रुपए से ज्यादा हो चुकी है। सीबीआई ने 1000 से भी ज्‍यादा पेज की चार्जशीट में कहा है कि किंगफिशर एयरलाइंस ने IDBI की तरफ से मिले 900 करोड़ रुपए के लोन में से 254 करोड़ रुपए का निजी इस्‍तेमाल किया।

माल्या की किंगफिशर एयरलाइंस अक्टूबर 2012 में बंद हो गई थी। दिसंबर 2014 में इसका फ्लाइंग परमिट भी कैंसल कर दिया गया। डेट रिकवरी ट्रिब्‍यूनल ने माल्या और उनकी कंपनियों UBHL, किंगफिशर फिनवेस्ट और किंगफिशर एयरलाइन्स से 11.5% प्रति साल की ब्याज दर से वसूली की प्रॉसेस शुरू करने की इजाजत दी थी।


कमेंट करें