इंटरनेशनल

दावोस: स्विस प्रेसिडेंट से PM मोदी की हुई मुलाकात, काले धन पर कसेगी नकेल

आशुतोष कुमार राय, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
404
| जनवरी 23 , 2018 , 09:08 IST

पीएम नरेंद्र मोदी आज दावोस में विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की वार्षिक बैठक के प्लेनरी सेशन को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी का संबोधन भारतीय समय के मुताबकि दोपहर 3.30 बजे होगा। इससे पहले कल पीएम मोदी स्विस राष्ट्रपति एलेन बर्सेट से मिले।

पीएम मोदी काले धन पर नकेल कसने की तैयारी कर रहे हैं। एक ट्वीट में पीएम मोदी ने कहा, 'दावोस पहुंचकर स्विस कॉन्फेडरेशन के प्रेजिडेंट से चर्चा की। हमने अपने द्विपक्षीय संबंध की संभावनाओं की समीक्षा की और इसे मजबूत करने के उपायों पर चर्चा की।'

सूत्रों ने बताया कि दोनों नेताओं ने टैक्स इन्फर्मेशन स्वत: आदान-प्रदान करने की व्यवस्था पर भी चर्चा की है। इस संबंध में स्विस संसद द्वारा एक विधेयक पास किया गया था जिसके बाद बैंकों और वित्तीय संस्थानों ने टैक्स इन्फर्मेशन के आदान-प्रदान करने के लिए डेटा का संग्रह करना शुरू कर दिया है। टैक्स इन्फर्मेशन का पहला आदान-प्रदान अगले साल से शुरू होना है।

20 वर्षों में भारतीय प्रधानमंत्री की दावोस की यह पहली यात्रा है। प्रधानमंत्री वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम के पूर्ण सत्र में एक मुख्य भाषण देंगे, अंतरराष्ट्रीय व्यापार परिषद को संबोधित करेंगे और मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) से मुलाकात करेंगे।

इसे भी पढ़ें:- #IndiaMeansBusiness: दावोस में पीएम मोदी के 10 मंत्र, जानिए क्या-क्या है खास

मोदी कल वैश्विक व्यापारिक समुदाय के सदस्यों से बातचीत करेंगे। इसके अलावा वह अपना मुख्य भाषण भी देंगे। इस साल के सम्मेलन का विषय 'क्रिएटिंग अ शेयर्ड फ्यूचर इन ए फ्रैक्चर्ड वर्ल्ड' है।

मोदी ने देश से रवाना होने से पहले कल कहा था कि भारत का अन्य देशों के साथ संबंधों का हालिया वर्षों में विस्तार हुआ है।

बाहरी दुनिया के साथ देश के संबंध वास्तव में बहुआयामी हुए हैं जिनमें राजनीतिक, आर्थिक, लोगों से लोगों के बीच और सुरक्षा तथा अन्य आयाम शामिल हैं।उन्होंने कहा था, 'दावोस में, मैं अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ भारत के भविष्य के संबंध के लिए अपने विजन को साझा करने की आशा करता हूं।'

डब्ल्यूईएफ की 48वीं सालाना बैठक में कारोबार, राजनीति, कला, अकादमिक और सिविल सोसायटी से विश्व के 3,000 से भी अधिक नेता भाग लेंगे।

इसमें भारत से 130 से भी अधिक लोग भाग लेंगे। वर्ष 1997 में एच.डी. देवगौड़ा की यात्रा के बाद करीब 20 वर्षों में दावोस बैठक में शामिल होने वाले मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं।


कमेंट करें