नेशनल

भारत पर परमाणु हमला करना चाहता था मुशर्रफ, इस डर से पलटा अपना फैसला

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
300
| जुलाई 28 , 2017 , 12:01 IST | नई दिल्ली

पाकिस्तान में अपने ऊपर चल रहे केस से बचने के लिए अपने देश से फरार चल रहे पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने जापान के एक अखबार को दिए अपने इंटरव्यू में कहा है कि साल 2001 में वो भारत के ऊपर परमाणु हमला करने के बारे में सोच रहे थे। इस बात को लेकर वो कई रातों तक सो नहीं पाए थे। लेकिन उन्हें इस बात का भी डर सता रहा था कि अगर भारत ने पाकिस्तान पर जवाब में परमाणु बम दागने शुरू किए तो पाक पूरी तरह बर्बाद हो जाएगा। 

Musharraf_650_020116120622

परवेज मुशर्रफ ने अपने इंटरव्यू में कहा है कि साल 2001 में भारत के साथ पाकिस्तान के रिश्ते काफी खराब हो गए थे। दोनों देशों के बीच स्थिति इतनी ज्यादा खराब थी कि एक दूसरे को युद्ध की धमकी दे रहे थे। ऐसे में मुशर्रफ ने परमाणु हथियारों को मोर्चो पर तैनात करने और फिर भारत पर हमला करने के बारे में सोच रहे थे। लेकिन उन्हें इस बात का भी डर था कि जवाबी कार्रवाई में भारत के हमले के सामने पाकिस्तान टिक नहीं पाएगा और अगर भारत ने परमाणु हमला किया तो पाकिस्तान पूरी तरह खत्म हो जाएगा।

आपको बता दें कि साल 2001 में भारतीय संसद पर आतंकी हमला हुआ था। जिसके बाद दोनों देश के बीच तनाव पैदा हो गया था। मुशर्रफ ने जापानी अखबार से कहा कि साल 2002 के शुरूआत तक हालात इतने खराब हो गए कि दोनों तरफ से परमाणु युद्ध की घमकियां दी जाने लगी। हालांकि इससे पहले भी कई बार मुशर्रफ ने परमाणु हमले को लेकर बयानबाजी की है।

Atom-bomb

मुशर्रफ ने कहा, उस दौरान न तो पाकिस्तान ने और न ही भारत ने परमाणु हथियार मिसाइल में फिट किए थे। इस प्रक्रिया में एक-दो दिन का वक्त लगता है। ऐसा नहीं हुआ। इसके लिए खुदा का शुक्रिया अदा करता हूं। मुशर्रफ ने 1999 में नवाज शरीफ का तख्तापलट करके पाकिस्तान की सत्ता पर कब्जा किया था। उसी के बाद भारतीय संसद पर आतंकी हमला हुआ था। उस समय भारत के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी थे।


कमेंट करें