इंटरनेशनल

कब्र के अंदर से गायब हुआ इराक के तानाशाह सद्दाम हुसैन के शव का अवशेष

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
999
| अप्रैल 16 , 2018 , 16:32 IST

अमेरिका द्वारा फांसी की सजा पा चुके इराक के पूर्व तानाशाह राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन का मृत शरीर अब उनके कब्र में नहीं है। सद्दाम हुसैन के कब्र पर टूटे-फूटे पत्थरों के अलावा कुछ नही बचा है। शव का कोई भी अवशेष नहीं मिला है।

गौरतलब है कि इराक में कई निर्दोष लोगों की हत्या के मामले में सद्दाम हुसैन को फांसी की सजा दी गयी थी जिसके बाद उनके शव को गांव अल-अवजा में शव को दफनाया गया था लेकिन अब उनके शव के कोई भी अवशेष वहां मौजूद नहीं हैं।

इराक की सत्ता संभाले रहा, को 30 दिसंबर 2006 को फांसी पर लटकाया गया था। तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्लू. बुश ने खुद तानाशाह के शव को अमेरिकी मिलिटरी हेलिकॉप्टर से बगदाद रवाना किया था, जहां अल-अवजा में उन्हें दफनाया गया।

लेकिन आज, इस बात को लेकर सवाल उठ रहे हैं कि आखिरकार सद्दाम का शव गया कहां? क्या उनका शव अल-अवजा में ही है या फिर उसे खोदकर निकाल लिया गया है और अगर ऐसा है तो उसे कहां ले जाया गया है?

69 साल के सद्दाम को फांसी देने के बाद उन्हें भोर होने से पहले ही दफना दिया गया था। इसके बाद यह जगह एक तीर्थस्थल में बदल गई थी और स्थानीय स्कूली छात्रों के समूह और सद्दाम के समर्थक हर साल 28 अप्रैल को उनके जन्मदिन के मौके पर यहां इकट्ठे होते थे। हालांकि, अब इस जगह पर आने के लिए विशेष आज्ञा की जरूरत होती है।

क्या जला दिया गया सद्दाम का शव-:

सद्दाम के वंश से जुड़े शेख मनफ अली अल-निदा का कहना है कि सद्दाम की कब्र को खोदा गया और उन्हें जला दिया गया। हालांकि, वह यह भी कहते हैं कि उन्होंने ऐसा होते हुए नहीं देखा।

दूसरी तरफ सद्दाम की कब्र की सुरक्षा में लगे शिया अर्द्धसैनिक बलों का कहना है कि आतंकवादी संगठन ISIS द्वारा अपने लड़ाके यहां तैनात करने के बाद इराकी हवाई हमलों में कब्र बर्बाद हुई है। सुरक्षाबल के प्रमुख जाफर अल-घरावी ने दबाव देते हुए कहा, 'सद्दाम का शव अभी भी यहीं है।'

क्या बेटी ले गई पिता का शव?

सद्दाम के लिए काम कर चुके एक लड़ाके ने यह भी आशंका जाहिर की कि सद्दाम की निर्वासित बेटी हाला एक निजी विमान से अवजाह आईं और पिता के शव को अपने साथ जॉर्डन ले गईं।

इस पर सद्दाम के समय के स्टूडेंट और अब प्रफेसर बन चुके एक शख्स ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया, 'असंभव, हाला कभी इराक लौटी ही नहीं। शव को कहीं गुप्त स्थान पर ले जाया गया है। कोई नहीं जानता कि शव को कौन और कहां ले गया।' पर कुछ अन्य लोगों की तरह ही बगदाद निवासी अबु समीर का मानना है कि सद्दाम अभी भी जिंदा है। उन्होंने कहा, 'सद्दाम मरे नहीं। जिसे फांसी दी गई थी, वह उनके हमशक्लों में से एक था।'


कमेंट करें