नेशनल

मोदी ने दिया 'गरीबी भारत छोड़ो' का नारा, 2022 तक होगा गांवों का संपूर्ण विकास

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
123
| अक्टूबर 11 , 2017 , 13:08 IST | पुणे

जनसंघ के बड़े नेता नानाजी देशमुख की जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करीब 10 ग्रामीणों से रुबरु हुए। पीएम ने दिल्ली के पूसा में इंडियन एग्रिकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट में एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया और वहां एक कार्यक्रम को भी संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि लोकतंत्र में केवल वोट का अधिकार नहीं है, बल्कि जनता की भागीदारी भी काफी जरूरी है. सरकार हर योजना की समीक्षा कर रही है।

मोदी ने कहा कि दिशा ऐप से गुड गवर्नेंस को फायदा मिलेगा। ग्रामीण भारत में चल रही योजनाओं के बारे में सारी जानकारी मिल सकेगी। दिशा के माध्यम से जनप्रतिनिधि लोगों के साथ जुड़ पाएंगे। पीएम मोदी ने कहा कि गांवों को शहर के बराबर खड़ा करना होगा, देश में जातिवाद का जहर खत्म करना होगा। उन्हें आत्मनिर्भर करना जरुरी है। जिन राज्यों में ज्यादा गरीबी है वहां पर मनरेगा का काम कम है, लेकिन जहां पर गुड गवर्नेंस है वहां पर मनरेगा का काम ज्यादा है।

पीएम बोले कि आज भारत सरकार इनके सपनों के आधार पर ग्रामीण भारत के विकास की ओर आगे बढ़ रही है। गांव की शक्ति को ही जोड़कर देश को आगे बढ़ाना चाहते हैं। ग्रामीणों के सुझाव के आधार पर ही ग्रामीण विकास के लिए रोडमैप पर काम कर रहे हैं। सिर्फ विकास करने से बात पूरी नहीं होगी, सिर्फ अच्छा करने से बात पूरी नहीं होगी। चीज़ों को समय-सीमा में करने से ही काम अच्छा होगा।

मोदी ने कहा कि 2022 में ग्रामीण विकास की गति तेज होगी, जो विकास 70 साल से रुका हुआ है। गांव का नागरिक भी शहर की जिंदगी चाहता है। शहर और गांव में बिजली 24 घंटे बिजली जानी चाहिए।

देश नानाजी देशमुख को जानता नहीं था, लेकिन इसके बावजूद भी उन्होंने अपनी पहचान बनाई। पीएम ने कहा कि जयप्रकाश के आंदोलन के कारण ही दिल्ली की सत्ता हिल गई थी। जब जेपी पर हमला हुआ तो नानाजी देशमुख ने उस हमले को झेल लिया और हाथ की हड्डी टूट गई। लोकनायक जयप्रकाश युवाओं के लिए प्रेरणा है।
पीएम मोदी ने कहा कि जय प्रकाश नारायण और नानाजी देशमुख ने देश में गरीबों के लिए काम किया। महात्मा गांधी ने जिस आंदोलन की शुरुआत की थी, उसकी बागडोर जेपी ने संभाली थी।

लॉन्च हुई ग्रामीण संवाद ऐप

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी 'ग्राम संवाद ऐप' को भी लांच किया, जिसके जरिए इस बात की निगरानी की जा सकेगी कि सरकार द्वारा गांवों के विकास के लिए जो योजनाएं चलाई जा रहीं हैं, वो ग्राम पंचायत स्तर पर किस तरह काम कर रही हैं।

कौन थे नानाजी देशमुख

नानाजी देशमुख के नाम से मशहूर जनसंघ से प्रसिद्ध नेता चंडिकादास अमृतराव देशमुख की जन्मशती जंयती को मोदी सरकार धूमधाम से मना रही है। नानाजी देशमुख का जन्म 11 अक्टूबर 1916 को हुआ था और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुधारने और समाजिक कार्यों के लिए सरकार ने उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। खास बात ये है इसी दिन जयप्रकाश नारायण का भी जन्म हुआ था, जो उनके सहयोगी रहे थे।

नानाजी देशमुख ने उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा पर स्थित चित्रकूट को अपनी कर्मभूमि बनाया था और दोनों राज्यों के करीब पांच सौ गांवों में स्वास्थ, शिक्षा और रोजगार के क्षेत्र में ऐसा काम किया था, जिसकी मिसाल दी जाती है। नानाजी ने चित्रकूट ग्रामोदय विश्वविद्यालय की स्थापना भी की थी जो देश का पहला ग्रामीण विश्वविद्यालय था।


कमेंट करें