नेशनल

PM बनकर नहीं आया हूं, जो कुछ हूं वडनगर की संस्कार की वजह से: मोदी

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
76
| अक्टूबर 8 , 2017 , 13:36 IST | वडनगर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात दौरे के दूसरे दिन अपने जन्मस्थान वडनगर पहुंचे। यहां उनका जोरदार स्वागत किया गया। पीएम मोदी ने भी वहां मौजूद लोगों का अभिवादन किया। वडनगर में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जब अपने गांव में अपनों के बीच स्वागत सम्मान होता है तो उसका अनुभव कुछ और होता है। अपने स्वागत के लिए वडनगर की जनता का शुक्रिया अदा करते हैं।

उन्होंने कहा कि मैं वडनगर की धरती को नमन करता हूं। मैं जो कुछ भी हूं, यहां की मिट्टी के संस्कारों की वजह से हूं। यहां आए ते कुछ पुराने दोस्त हाथों में लकड़ी लेकर घूमते भी दिखाई दिए।

मोदी ने कहा कि एक बार भारतीय सेना के चीफ जनरल करियप्पा कर्नाटक में अपने गांव गए थे। तब उन्होंने कहा था कि जब वो दुनियाभर में जाते थे तो लाखों सैनिक उन्हें सैल्यूट करते थे। लेकिन अपने गांव में अपनों के बीच स्वागत होता है तो उसकी अहसास कुछ और होता है। वडनगर के लोगों के प्यार ने मुझे भिगो दिया है। मैं आपको और इस धरती को नमन करता हूं। इतना प्यार, दुलार दिल को छू लेने वाली घटना है।
उन्होंने कहा कि आज मैं जो कुछ हूं, इसी मिट्टी के कारण हूं। इसी मिट्टी में और आपके बीच पला बढ़ा हूं। आज जब मंदिर में दर्शन के लिए जा रहा था तो लोगों को सैलाब उमड़ पड़ा। कई पुराने दोस्तों को देखा, जिनके अब दांत भी नहीं बचे हैं। कुछ तो हाथ में लकड़ी लेकर चल रहे थे। बहुत आनंद मिला।

मोदी ने कहा कि 15 साल बाद फिर एक नई ऊर्जा लेकर जा रहा हूं और देश के लिए पहले से ज्यादा मेहनत करूंगा।

वडनगर का ह्वेन सांग ने भी जिक्र किया

मोदी ने कहा, "जब मैं सीएम बना तो आर्कियोलॉजिकल डिपार्टमेंट से कहा कि मेरे गांव में खुदाई करें। आपको जानकर खुशी होगी कि जो कुछ भी खुदाई में मिला। वो दुनियाभर में आकर्षण का केंद्र बना। एक मैगजीन ने इसे विस्तार से छापा है। उसमें लिखा है कि हिन्दुस्तान में वडनगर एक ऐसा इकलौता इलाका है, जहां कभी न कभी लोग रहे हैं। ये इलाका कभी वीरान नहीं रहा। चाइनीज फिलॉसफर ह्वेन सांग जब यहां आए तो उन्होंने लिखा कि यहां बौद्ध भिक्षुओं का आश्रम था।"


कमेंट करें