विज्ञान/टेक्नोलॉजी

तेजी से बढ़ रही है भारतीय शहरों की आबादी, NASA ने जारी की तस्वीरें

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
207
| अप्रैल 14 , 2017 , 13:33 IST | कैलीफोर्निया

नासा ने भारत के कई शहरों के नए नाइट लाइट्स सैटेलाइट इमेज जारी किए हैं। इन तस्वीरों में बताया गया है कि पिछले चार सालों के अंदर भारत के शहरों की आबादी काफी तेजी से बढ़ रही है। नासा ने 2012 और 2016 की दो तस्वीरों की नाइट लाइट्स इमेज जारी कर बताया है कि किस तरह भारत में तेजी से शहरी आबादी बढ़ रही है।

Nasa 8

ऑक्सफोर्ड इकोनोमिक्स ग्लोबल सिटी फॉरकास्ट के मुताबिक 2015- 2019 तक भारत में 14 शहरों में तेजी से शहरी आबादी बढ़ेगी और शहर का जियो मैप तेजी से विस्तार होगा। सूरत शहर को इस रिपोर्ट में सबसे तेजी से बढ़ने वाली शहर की सूची में शामिल किया गया है। 2030 तक सूरत की शहरी आबादी 10 फीसदी से ज्यादा बढ़ने की उम्मीद जताई जा रही है।

Nasa 3

बता दें कि गुरुवार को नासा ने पृथ्वी की कुछ तस्वीरें जारी की हैं। ये तस्वीरें रात के वक्त अंतरिक्ष से ली गई हैं। इन तस्वीरों में पृथ्वी काफी सुंदर नजर आ रही है। सबसे दिलचस्प बात यह है कि इनमें भारत सारे जहां से अच्छा दिखाई पड़ रहा है। नासा ने इन तस्वीरों से चांद की रोशनी को हटाकर जारी किया है।

रात के वक्त ली गई इन तस्वीरों में धरती की हर लोकेशन पर बसी आबादी को दिखाया गया है। इन्हें नाइट लाइट्स का नाम दिया गया, ये तस्वीरें 2016 में ली गई थीं। तस्वीरों में भारत बेहद खूबसूरत नजर आ रहा है। इससे पहले 2012 में नाइट लाइट्स की तस्वीरें जारी की गईं।

Nasa 2

हर दिन तस्वीर जारी करने की योजना

नासा की अर्थ ऑब्जर्विंग सेटेलाइट डाटा एंड इन्फॉर्मेंशन सिस्टम में रोमन और उनके साथी इस नाइट टाइम डाटा को ग्लोबल इमेजरी ब्राउज सर्विस और वर्ल्डव्यू मैपिंग टूल के साथ एक करने की कोशिश कर रहे हैं।

ये तस्वीरें पिछले 25 साल से चल रही एक रिसर्च का हिस्सा हैं। नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर के अर्थ साइंटिस्ट मिगुएल रोमन की रिसर्च टीम अब ऐसे प्लान पर काम कर रही है, जिसके जरिए नाइट लाइट्स की तस्वीरों को हर साल, हर महीने या हर दिन जारी किया जा सके।

जानिए नासा के इस मिशन की खास बातें

2011 में NASA-NOAA सुओमी नेशनल पोलर ऑर्बिटिंग पार्टनरशिप (NPP) सेटेलाइट के लॉन्च होने के बाद से ही रिसर्चर्स नाइट लाइट्स के डाटा का अध्ययन कर रहे हैं

एक ऐसे नए सॉफ्टवेयर को डेवलेप करने की कोशिश की जा रही है, जिससे तस्वीरों को और साफ, सटीक और आसानी से उपलब्ध कराया जा सके। रिसर्चर्स धरती की रात में ली गई हाई डेफिनेशन तस्वीरों को रोजाना उपलब्ध कराने की कगार पर पहुंच गए हैं।

मौसम की भविष्यवाणी में मिलेगी मदद

सुओमी NPP डाटा इकट्ठा किए जाने के कुछ ही घंटों के भीतर सभी साइंटिस्ट के पास मौजूद रहता है।

रात के वक्त की ज्यादा सटीक तस्वीरों के चलते नासा अब अपने यूजर्स को ऐसी सुविधा देने की कोशिश कर रहा है, जिससे उन्हें ये डाटा कलेक्ट होने के कुछ ही समय बाद मिल सके।

Nasa 2

ये डाटा यूजर्स को मिलने से कम समय में मौसम की सटीक भविष्यवाणी, आपदा का पता लगाने और वक्त रहते कदम उठाने में काफी मदद मिल सकती है।

एक पोल से दूसरे पोल तक ऑब्जर्वेशन

इन नए मैप्स में साल के हर महीने में लिया गया डाटा मौजूद है। टीम ने एक कोड ईजाद किया, जिसके जरिए हर महीने सबसे ज्यादा साफ तस्वीरें ली गईं, जिसमें से चंद्रमा की रोशनी को भी हटा दिया गया।

सुओमी NPP धरती की हर लोकेशन को करीब 1.30PM से लेकर 1.30AM तक ऑब्जर्व करता है। इसमें धरती को एक पोल से दूसरे पोल तक, यानी करीब 3 हजार किलोमीटर की स्ट्रिप में ऑब्जर्व किया जाता है।

देखिए वीडियो