विज्ञान/टेक्नोलॉजी

जहरीली धुंध से बचाएगा 10 रुपए का ये डिवाइस, ऐसे करें इस्तेमाल

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
74
| नवंबर 13 , 2017 , 13:42 IST | नई दिल्ली

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर इन दिनों काफी अधिक बढ़ चुका है। लेकिन इसका एक नायाब हल IIT दिल्ली के छात्रों ने धुंध निकाला है। जल्दी ही एक ऐसी डिवाइस लॉन्च होने वाली है, जिसे नाक में फिट कर प्रदूषित हवा से बचा जा सकेगा। आईआईटी दिल्ली के स्टूडेंट्स के बनाए इस प्रॉडक्ट 'नैजोफिल्टर' को 2 दिसंबर को लॉन्च किया जाएगा। खास बात तो यह है की इस डिवाइस की कीमत बेहद कम होगी। इस नैजोफिल्टर की कीमत सिर्फ 10 रुपए होगी।

इस नैजोफिल्टर का इस्तेमाल 8-10 घंटे तक किया जा सकेगा। दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर काफी अधिक बढ़ने की वजह से इसे सोशल मीडिया कैंपेन के तहत बांटा भी जा रहा है। अभी तक करीब 40 हजार लोगों को यह प्रोडक्ट दिया भी जा चुका है। इसमें एक नैनो-रेस्पिरेटरी फिल्टर है, जो हवा के खतरनाक कड़ों को शरीर में जाने बचाता है और मास्क की तरह ही काम करता है।

राष्ट्रपति से मिल चुका है अवॉर्ड-

आपको बता दें कि इस खास डिवाइस को इजात करने के लिए आईआईटी दिल्ली के छात्रों को राष्ट्रपति की तरफ से अवार्ड भी मिल चुका है। इसी साल मई में इस खास डिवाइस को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 'स्टार्टअप नेशनल अवॉर्ड' दिया था। यह पीएम 2.5 से तो बचाता ही है साथ ही बैक्टीरिया से भी बचाता है। वहीं दूसरी ओर, जिन लोगों को फूलों के पराग से एलर्जी होती है, उनके लिए भी यह डिवाइस काम की चीज है।

इस डिवाइस को सिविल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग की टीम के संजीव जैन, प्रतीक शर्मा, तुषार व्यास और जतिन केवलानी ने बनाया है। टेक्सटाइल डिपार्टमेंट के फैकल्टी मेंबर प्रो. मंजीत जस्सल और प्रो. अश्विनी अग्रवाल ने भी इस डिवाइस को बनाने में अपना योगदान दिया है।

नैज़ोफिल्टर्स डॉट कॉम के फाउंडर प्रतीक शर्मा की मां जब अस्थमा से परेशान थीं और मास्क उनके पहनना उनके लिए बडी दिक्कत होता था, तब उन्हें नाक में फिट करने वाले फिल्टर्स के बारे में सोचा।

उन्होंने बताया कि ये नाक में फिट होते हैं। यह एएसटीएम स्टैंडर्ड के तहत इंडियन और कोरियन लैब्रोरेटरी से भी सर्टिफाइड है। ये करीब 8 से 10 घंटे तक काम करता है, इसके बाद इसे फेंका जा सकता है। यह पीएम 2.5 से और बैक्टीरिया से भी बचाता है।


कमेंट करें