नेशनल

32000 फ्लैट खरीदारों पर संकट, जेपी बिल्डर्स दिवालिया घोषित, 8 हजार करोड़ का है कर्ज

श्वेता बाजपेई, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
345
| अगस्त 10 , 2017 , 20:29 IST | नई दिल्ली

जेपी बिल्डर्स पर मुसीबत के बादल मंडरा रहे हैं। नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल ने जेपी बिल्डर्स को दिवालिया घोषित कर दिया है। बताया जा रहा है कि कंपनी पर 8 हज़ार 365 करोड़ का कर्ज है। एनसीएलटी ने जेपी बिल्डर को 270 दिनों का समय दिया है। अगर इस अगले 9 महीने में हालात नहीं बदले तो संपत्ति भी नीलाम होगी।

इसके बाद से उत्तर प्रदेश में जेपी बिल्डर से मकान, फ्लैट खरीदने वालों हजारों लोगों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। नोएडा, ग्रेटर नोएडा में जेपी के कई प्रोजेक्ट निर्माणाधीन हैं। एक अनुमान के मुताबिक जेपी बिल्डर के करीब 32 हजार फ्लैट निर्माणाधीन हैं। इसका असर उन लोगों पर बहुत अधिक पड़ेगा, जिन्होंने इन 32 हजार फ्लैट्स खरीदने के लिए पैसे लगाए हैं।

ट्रिब्यूनल की इलाहाबाद बेंच ने आईडीबीआई बैंक की याचिका पर जेपी इंफ्राटेक को दिवालिया घोषित कर दिया। दरअसल इसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी कोड के तहत जब एनसीएलटी में कोई केस मंजूर कर लिया जाता है तो उसके बाद कंपनी को 180 दिनों के भीतर अपनी आर्थिक स्थिति सुधारनी होती है। इस अवधि को 90 दिन और बढ़ाया जा सकता है। फिर भी अगर कोई सुधार नहीं आता तो कंपनी की संपत्तियों को नीलाम कर दिया जाता है।

आपको बता दें कि कुछ समय पहले ही भारतीय रिजर्व बैंक ने बैंकों के एनपीए को कम करने की दिशा में कार्रवाई करते हुए 12 डिफॉल्टर्स की पहचान की थी। इन 12 खातेदारों पर बैंकों का करीब 5000 करोड़ रुपए से भी अधिक बकाया था। कुल एनपीए का 25 फीसदी इन 12 खातेदारों के नाम पर था। इन्हीं 12 खातेदारों में से जेपी इंफ्राटेक एक है कंपनी पर अकेले आईडीबीआई बैंक का 4,000 करोड़ रुपये बकाया है।

इसके साथ ही आपको बता दें कि आम्रपाली समूह पर बैंक की गाज गिरने वाली है। जानकारी के अनुसार, लोन की रकम बैंक में जमा नहीं करने पर बैंक ने आम्रपाली समूह को नोटिस जारी कर नीलामी करने जा रही है। बैंक समूह के सेक्टर-62 स्थित प्लॉट नंबर 37 सी-56 स्थित आम्रपाली के कॉरपोरेट ऑफिस को नीलाम करने जा रहा है। यह निलामी 18 अगस्त को होगी। नीलामी की रकम नौ करोड़ दस लाख 78 हजार रुपए से शुरू होगी।


कमेंट करें