अभी-अभी

राष्ट्रपति चुनाव: NDA उम्मीदवार कोविंद पर विपक्ष में हुआ टकराव, मिल सकता हैं समर्थन!

अनुराग गुप्ता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
120
| जून 20 , 2017 , 14:29 IST | नई दिल्ली

राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए एनडीए ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को अपना उम्मीदवार चुना है। सोमवार को बीजेपी संसदीय बोर्ड की अहम बैठक में करीब एक घंटे तक चले मंथन के बाद कोविंद को राष्ट्रपति उम्मीदवार चुनने का फैसला लिया गया। वहीं मोदी सरकार द्वारा खेले गए इस दलित कार्ड के बाद विपक्ष में टकराव की स्थिति पैदा हो गई। 

समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने कोविंद पर अपना समर्थन देने का संकेत दिया है। इतना ही नहीं बसपा ने कांग्रेस पर दबाव बनाते हुए दलित उम्मीदवार खड़ा करने की बात कहीं है। ऐसे में कांग्रेस के पास मीरा कुमार के रूप में एक दलित उम्मीदवार है, जिनको लेकर अटकलों का बाजार गर्म हो गया है कि वो यूपीए की तरफ से राष्ट्रपति उम्मीदवार बन सकती है।

यूपीए ने अभी तक पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार के नाम पर अभी मोहर नहीं लगाई है। मगर उनके नाम पर सभी दलों में आपसी सहमति बनेगी इसे लेकर संशय जारी है। वहीं सपा ने उत्तर प्रदेश से राष्ट्रपति उम्मीदवार चुनने के लिए सरकार को धन्यवाद कर रही है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के परौंख में जन्में रामनाथ कोविंद बीजेपी का दलित चेहरा हैं और वो राज्यसभा के सांसद भी रह चुके हैं। रामनाथ कोविंद पेशे से वकील हैं। अगर रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति बनते हैं तो डॉ. के आर नारायणन के बाद रामनाथ कोविंद दूसरे दलित राष्ट्रपति होंगे। पीएम मोदी और बीजेपी राष्ट्रीय अध्यक्ष ने रामनाथ कोविंद से मुलाकात की जिसकी फोटो पीएम मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट में शेयर की है।

वहीं बिहार की नीतीश सरकार ने भी समर्थन देने के संकेत दिए है। अभी सिर्फ माकपा के नेतृत्व में वामदल ने विरोध किया है और ऐसी आशंकाएं जताई जा रही है कि वामदल अपना उम्मीदवार खड़ा कर सकता है। जिसकी वजह से विपक्ष बिखरता हुआ नजर आने लगा रहा है।

बता दें कि कांग्रेस ने 22 जून को विपक्षी दलों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम पर चर्चा हो सकती है और सभी दलों के मतभेद सामने आ सकते हैं।


कमेंट करें