नेशनल

सुप्रीम कोर्ट का अहम आदेश: सभी भाषाओं में एक जैसा हो NEET का प्रश्‍न पत्र

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
200
| अगस्त 10 , 2017 , 19:30 IST | नई दिल्ली

NEET 2017 के एग्जाम पेपर में अलग-अलग भाषा में अलग-अलग प्रश्नपत्र दिए जाने के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीएसई को कड़ी फटकार लगाई है। गुरुवार को सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा- सभी भाषाओं में एक जैसा ही प्रश्नपत्र होना चाहिए।

बता दें कि इस साल NEET की परीक्षा अंग्रेजी-हिंदी समेत आठ भाषाओं में आयोजित की गई थी। परीक्षा के बाद छात्रों ने सवाल उठाए थे कि रीजनल लैंग्वेज में तैयार पेपर अंग्रेजी के मुकाबले कठिन थे। इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट में एक पिटीशन भी दायर की गई थी जिसमें 7 मई को हुए NEET परीक्षा को रद्द करने की मांग भी की गई थी, क्योंकि अलग-अलग भाषाओं में दिए गए पेपर में सवाल अलग-अलग थे। हालांकि कोर्ट ने परीक्षा को रद्द करने से इनकार कर दिया था। कोर्ट का मानना था कि इससे परीक्षा पास करके प्रोफेशनल कोर्स में दाखिला ले चुके छह लाख छात्रों पर असर होगा।

Neet  feature


NEET एग्जाम के फायदे?

NEET परीक्षा देने के बाद मेडिकल और डेंटल कॉलेज में एमबीबीएस और बीडीएस कोर्सेस में एंट्रेस मिलता है। साथ ही उन कॉलेजों में भी एंट्री मिलती है, जो मेडिकल कांउसिल ऑफ इंडिया और डेटल कांउसिल ऑफ इंडिया के तहत मान्यता प्राप्त होते हैं।


कमेंट करें