नेशनल

NGT ने लगाई केजरीवाल को फटकार, कहा- ऐसे लागू नहीं कर सकते ऑड-ईवन

अर्चित गुप्ता | 0
64
| नवंबर 10 , 2017 , 16:10 IST | नई दिल्ली

दिल्ली में 13 नवंबर से लेकर 17 नवंबर तक ऑड-ईवन लागू होना है। एनजीटी यानी नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि इस बात के क्या सबूत हैं कि ऑड-इवन से प्रदूषण स्तर में कमी आएगी। एनजीटी ने दिल्ली सरकार को खरी - खोटी सुनाते हुए कहा कि आपने तो ऑड-ईवन स्‍कीम को एक पिकनिक स्पॉर्ट बना दिया है और पूरे साल कुछ काम नहीं किया। एनजीटी ने अपनी बात में कहा कि दिल्ली सरकार यह साबित करें इससे प्रदूषण कम किया जाएगा या नहीं। अगर दिल्ली सरकार यह बताने में असमर्थ साबित होती है तो हम इस स्कीम पर रोक लगा देंगे।

NGT ने कहा कि महिलाओं को छूट किस आधार पर दी गई है। एनजीटी ने कहा कि आपने सिर्फ पांच दिनों के लिए किस आधार पर ऑड-इवन लगाया वो भी तब जब प्रदूषण का स्तर कम होने लगा है। पहले की रिपोर्ट बताती है कि ऑड-इवन से प्रदूषण कम नहीं हुआ, उल्टा बढ़ गया। अब जबकि हालात सुधरने लगे हैं तब आप इसको लागू करने की बात कर रहे हैं । अगर करना था तो पहले से ही क्यों नहीं लागू किया। इससे तो आप लोगों की परेशानी और बढ़ाने वाले हैं।

Odd-even-scheme

एनजीटी ने दिल्ली सरकार से कहा कि आपके पास ऑड-इवन से प्रदूषण कम होने का कोई वैज्ञानिक आधार ही नहीं है। एनजीटी ने कहा कि आपके पास लोगों को ट्रांसपोर्ट की सुविधा देने के लिए बसें ही नहीं हैं, हम आपको ऑड इवन इस तरह से लागू करने की इजाज़त नहीं दे सकते। कोर्ट ने कहा कि जब तक दिल्ली सरकार कोर्ट में यह साबित नहीं कर देती कि इस नियम से प्रदूषण पर लगाम लगाई जा सकती है, इसे लागू नहीं करने दिया जा सकता।

कोर्ट ने कल होने वाली सुनवाई में ये भी पूछा है कि दिल्ली सरकार बताये कि पेट्रोल-CNG के वाहनों और डीजल-पेट्रोल के वाहनों के बीच मे प्रदूषण के लेवल में क्या फर्क है। एनजीटी ने ये भी कहा कि ये दुनिया का सबसे बड़ा केस है, आज की तारीख़ में इससे ज़रूरी कोई और सुनवाई नहीं हो सकती क्योंकि न सरकार और न ही हम अपने बच्चों को जीने के लिए सबसे ज़रूरी सांसे भी नहीं दे पा रहे हैं।

Main-qimg-f3b75d998110c8616aa3517ca6520a15


कमेंट करें