नेशनल

सोमवार से नहीं लागू होगा ऑड-ईवन, दिल्ली सरकार ने NGT की शर्तों के बाद बदला फैसला

ललिता सेन, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
104
| नवंबर 11 , 2017 , 15:44 IST | नई दिल्ली

दिल्ली में एक बार फिर ऑड-ईवन फॉर्मूला शुरू होने वाला है। एनजीटी दिल्ली में बढ़े प्रदूषण पर लगाम के मकसद से प्रस्तावित वाहनों के ऑड-ईवन फॉर्मूले को मंजूरी दे दी है। हालांकि एनजीटी ने इसके साथ ही कुछ शर्ते भी लगाई हैं। ऑड-इवेन की ये स्कीम 13-17 नवंबर तक लागू रहेगी।

एनजीटी ने अपने आदेश में कहा है कि शहर में जब भी PM10 का स्तर 500 और PM2.5 का स्तर 300 के पार हो तो सरकार तुरंत ऑड-ईवन लागू करें।

एनजीटी की कुछ शर्तें

-इस स्कीम में टू-वीलर्स को छूट नहीं दी जाएगी।

-महिलाओं और सरकारी कर्मचारियों को छूट नहीं दी जाएगी।

ये भी पढ़ें: दिल्ली सरकार का बड़ा ऐलान, ऑड-ईवन के दौरान DTC बसों में करें मुफ्त सफर

एनजीटी ने दिल्ली सरकार से ऑड-इवेन से जुड़े कुछ सवाल पूछे

- आप किस आंकड़ों के आधार पर सिर्फ 5 दिनों के लिए ऑड-इवेन लागू कर रहे हैं?

- पिछली बार ऑड-इवेन के दौरान डीपीसीसी के मुताबिक प्रदूषण कम नहीं हुआ था।

- 48 घंटे पीएम 10 अगर 500 होता है और पीएम 2.5 अगर 300 होगा तो क्या आप ऑड-इवेन लागू कर देंगे?

- ऑड-इवेन के दौरान जो 500 बसें लाई जा रही हैं उनमें कितनी डीजल की बसे हैं?

- एक डीजल गाड़ी पेट्रोल कार के बराबर कितना प्रदूषण करती है?

- पेट्रोल और छोटी गाड़ियों का दिल्ली के प्रदूषण में कितना योगदान है?

- मोटरसाइकिल कितना प्रदूषण करती हैं। ऑड-इवेन के दौरान आपने इन्हें छूट क्यों दी?

- हम हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, यूपी, दिल्ली को आदेश देते हैं कि किसी भी प्रकार की कोई पराली नहीं जलाई जाए।

- अगर पराली जलाई जाएगी तो जिम्मेदार अधिकारियों के वेतन से जुर्माना वसूला जाए।

- कोई भी ओवरलोडेड ट्रक दिल्ली और एनसीआर में ना आएं।

आपको बता दें कि, इससे पहले एनजीटी ने दिल्ली सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी। इस मामले की सुनवाई के दौरान एनजीटी ने केजरीवाल सरकार से वह ऑर्डर दिखाने को कहा, जिसमें ऑड-ईवन लागू करने की बात है।


कमेंट करें