अभी-अभी

जाधव की रिहाई मुमकिन है क्योंकि इंटरनेशनल कोर्ट में हमारा पक्ष मजबूत है

मनीष शुक्ला, संवाददाता, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
148
| जून 23 , 2017 , 16:59 IST | नयी दिल्ली

पिछले काफी समय से भारत और पाकिस्तान के रिश्ते तल्ख़ हैं। इसकी एक नहीं कई वजह हैं। चाहें आतंकवाद की बात हो या फिर भारत के साथ अन्य मुद्दों पर संवाद की स्थिति,पाकिस्तान अपने अड़ियल रवैये पर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शर्मसार होता आया है ।

इसमें एक अहम मुद्दा पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव का भी है। न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया से ख़ास बातचीत में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की सदस्य और सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ अधिवक्ता ज्योतिका कालरा ने पाकिस्तान की स्थिति पर कहा कि पाकिस्तान में मानवाधिकार की स्थिति पूरी तरह से राजनीतिक है और मानवाधिकार के माध्यम से पाकिस्तान के राजनीतिक मक़सद पूरे होते हैं।

57877-yatnewajmb-1494421566

कुलभूषण जाधव की फांसी की सज़ा पर बोलते हुए ज्योतिका कालरा ने कहा कि जाधव मामले पर भारत ने अपना पक्ष अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में बहुत मज़बूती से रखा है और भारत को उम्मीद है कि कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान के चंगुल से छुड़ा लिया जाएगा।

Photo

(अधिवक्ता ज्योतिका कालरा)

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की सदस्य ज्योतिका कालरा ने कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय की स्थिति बहुत ही चिंतनीय है। पाकिस्तान में जीवन शैली ऐसी है कि वहां अल्पसंख्यक समुदाय पर दबाव ज्यादा है और उनपर ऐसी स्थिति पैदा की जाती है कि अल्पसंख्यक समुदाय इस्लाम धर्म कबूल कर लें या फ़िर पाकिस्तान छोड़ दें ।


कमेंट करें