नेशनल

नया नियम: योग नहीं किया तो नहीं मिलेगी इंजीनियरिंग की डिग्री

सतीश वर्मा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
207
| जुलाई 11 , 2017 , 15:11 IST | नई दिल्ली

योग नहीं किया तो इंजीनियरिंग की डिग्री नहीं मिलेगी। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने इंजीनियरिंग कॉलेजों के छात्रों के लिए अजीबोगरीब फरमान जारी किया है। दरअसल एआईसीटीई पूरे देश के इंजीनियरिंग कॉलेजों में यह व्यवस्था लागू करने जा रही है। इस नई व्यवस्था के तहत इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों को अब योग या खेल के सत्र में नियमित रुप से हिस्सा लेना अनिवार्य होगा। बता दें कि एआईसीटीई के दायरे में इस वक़्त करीब 10,000 इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। इन कॉलेजों में लगभग 18 लाख बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं।

Yoga 1

योग के क्लास में 25 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य

नई व्यवस्था के मुताबिक इंजीनियरिंग के छात्रों के लिए कॉलेजों में आयोजित होने वाले योग या खेलों के सत्र में कम से कम 25 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य होगी। हालांकि, इस उपस्थिति के एवज़ में उन्हें अतिरिक्त अंक नहीं मिलेंगे, लेकिन वे नहीं आए तो डिग्री मिलना ज़रूर खतरे में पड़ सकता है। एआईसीटीई के एक अधिकारी का कहना है कि,

यह कदम बच्चों के समग्र विकास में मददगार होगा। साथ ही इससे देश, समाज और सीधे तौर पर बच्चों को भी स्वास्थ्य के लिहाज से लाभ पहुंचेगा

Yoga 3

पहले स्वैच्छिक था खेल और एनसीसी का क्लास

अब तक देश के तमाम इंजीनियरिंग कॉलेजों में अन्य संस्थानों की तरह एनसीसी (नेशनल कैडेट कॉर्प्स), एनएसएस (नेशनल सोशल सर्विस) और यूबीए (उन्नत भारत अभियान) जैसी गतिविधियों के विकल्प होते हैं। लेकिन ये अनिवार्य न होकर स्वैच्छिक हैं। इस कदम का स्वागत करते हुए बी टेक की छात्रा पूजा शर्मा कहती हैं कि,

जब तक यह (योग और खेल) अनिवार्य नहीं किया जाता बच्चे इसमें भाग नहीं लेंगे

पिछले महीने यूजीसी (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग) ने सभी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने के लिए कहा था। उसने इस आयोजन में शिक्षकों और बच्चों की सहभागिता का प्रमाण देने को भी कहा था।

 


कमेंट करें